Breaking News
.

ठीक दो साल 43 दिन बाद खत्म हुआ इंतजार, शुरू हुई कानपुर मेट्रो ; 10 रुपये में कर सकेंगे सफर …

कानपुर । कानपुर मेट्रो में बुधवार की सुबह 6 बजे से रात के 10 बजे तक आप सिर्फ 10 रुपये में मेट्रो से सफर कर सकेंगे। इतनी रकम में किसी भी एक स्टेशन से अगले स्टेशन तक जा सकेंगे। दो स्टेशनों तक जाने के लिए आपको 15 रुपये और 3 से 6 स्टेशनों तक सफर के लिए 20 रुपये देने होंगे। प्राथमिक सेक्शन के सभी नौ स्टेशनों (आईआईटी से मोतीझील) तक जाने के लिए आपको 30 रुपये देने होंगे।

यात्रा के लिए आपको किसी भी स्टेशन के काउंटर से क्यूआर कोडयुक्त टिकट लेना होगा। इस टिकट को इलेक्ट्रॉनिक बैरियर पर लगी स्कैन मशीन पर टच कराना होगा। इसके साथ ही बैरियर खुल जाएगा और आप प्लेटफॉर्म पर पहुंच जाएंगे। सीसीटीवी कैमरे से हर यात्री और गतिविधि की 360 डिग्री तक निगरानी होगी। टिकटिंग की पूरी व्यवस्था स्टेट बैंक के हाथों में होगी।

कानपुर वासियों के लिए मेट्रो का इतजार खत्म हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 11 हजार करोड़ रुपये लागत की कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के प्रथम खंड की शुरुआत की। इस दौरान पीएम ने मेट्रो रेल से यात्रा की। उनके साथ उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ भी मौजूद थे। बता दें कि कानपुर मेट्रो के ट्रैक व स्टेशन के सिविल निर्माण कार्य की शुरुआत 15 नवंबर 2019 को मुख्यमंत्री योगी ने की थी। 10 नवंबर तक यह कार्य पूरा हो चुका था। जाहिर है दो साल से भी कम वक्त लगा। यह भी देश के किसी मेट्रो का नया रिकॉर्ड है।

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कारपोरेशन के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने बताया कि फिलहाल क्यूआर कोड से टिकट लेने की सुविधा दी गई है। जल्द ही स्मार्ट कार्ड भी मुहैया कराए जाएंगे। इसमें किराए में 10 प्रतिशत की छूट मिलेगी। वह कहते हैं कि प्रौद्योगिकी में प्रगति के साथ मेट्रो द्वारा पेश किया गया टिकटिंग मॉडल कानपुर शहर में दैनिक आवागमन के अनुभव को विश्व स्तर तक बढ़ा देगा। यह कार्ड यात्रियों को संपर्क रहित यात्रा अनुभव प्रदान करेगा। मेट्रो सेवाओं की शुरुआत लोगों के जीवन को बदल देगी और शहर में परिवहन के बुनियादी ढांचे में सुधार करेगी।

कानपुर में मेट्रो परियोजना दो चरणों में पूरी होगी एवं दो कॉरिडोर होंगे। कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के 32.6 किलोमीटर लंबे दोनों कॉरिडोर में कुल 30 मेट्रो स्टेशन होंगे। मेट्रो से एक बार में 974 यात्री सफर कर सकेंगे और ट्रेन की रफ्तार 80 से 90 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी। इसके अनुसार, पहले कॉरिडोर की लंबाई भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर से नौबस्ता तक 24 किलोमीटर की होगी।

error: Content is protected !!