Breaking News
.

अस्पतालों में भर्ती होने वाले कोविड-19 के मरीजों की संख्या तीन गुना तक बढ़ी …

नई दिल्ली । दिल्ली में कोरोना के मामले बढ़ने के साथ अस्पतालों में भर्ती मरीजों की संख्या भी भी बढ़ने लगी है। पिछले आठ दिनों में अस्पतालों में भर्ती संक्रमितों और संदिग्धों की संख्या तीन गुना तक बढ़ गई है। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, 5 जनवरी को अस्पतालों में 582 कोरोना संक्रमित भर्ती थे, लेकिन 13 जनवरी को रात 8 बजे तक इनकी संख्या बढ़कर 2469 हो गई।

अस्पतालों में भर्ती कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगभग ढाई हजार हो गई है। अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित 15778 बिस्तर में से 2469 भरे जा चुके हैं। इस हिसाब से देखें तो अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित 16 फीसदी बेड भर चुके हैं। दिल्ली के कुछ अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित 50 फीसदी से अधिक आईसीयू बेड भर गए हैं। यह जानकारी दिल्ली सरकार के कोरोना एप से मिली है।

दिल्ली सरकार के कोरोना एप के मुताबिक एम्स ट्रामा सेंटर में कोरोना मरीजों के लिए कुल 41 आईसीयू बेड उपलब्ध हैं। इनमें से 39 भर चुके हैं और दो खाली हैं। इसी तरह सफदरजंग अस्पताल में कोरोना के 18 आईसीयू बेड हैं और इनमें 13 भर चुके हैं। कलावती सरन अस्पताल में कोरोना संक्रमितों के लिए उपलब्ध सभी पांच आईसीयू बेड भर चुके हैं। मैक्स ईस्ट वेस्ट ब्लॉक में 20 में से 17 आईसीयू बेड पर मरीज हैं। फोर्टिस शालीमार बाग में 32 में 23 बेड भर चुके हैं। सर गंगाराम अस्पताल में 58 में 48 कोरोना आईसीयू बेड फुल हैं।

दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में आईसीयू में भर्ती अधिकतर गंभीर मरीज या तो बुजुर्ग हैं या ऐसे हैं जो दूसरी बीमारियों से ग्रस्त हैं। यह जानकारी दिल्ली के स्वास्थ्य सचिव ने दी है। उन्होंने कहा कि हमें इन्हीं लोगों पर ध्यान देना है, क्योंकि भले ही ओमीक्रोन डेल्टा से कम खतरनाक हो लेकिन बुजुर्गों और पहले से बीमारों को सावधान रहने की जरूरत है।

error: Content is protected !!