Breaking News
.

लोहे के पार्ट्स के नीचे छिपाकर ले जा रहे थे 84 लाख रुपए का गांजा, छत्तीसगढ़ के इस जिले में पकड़े गए उत्तरप्रदेश के कुख्यात तस्कर …

रायपुर । लोहे के पार्ट्स के नीचे 84 लाख का अवैध गांजा छिपाकर ला रहे उत्तरप्रदेश के तस्करों को पकड़ने में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। तस्कर पुलिस को चकमा देने के लिए लोहे के बड़े-बड़े पार्ट्स रखे हुए थे। इसके एकदम नीचे गांजा छिपा रखा था। मुखबिर की मिली सूचना के बाद पुलिस ने पूरा ट्रक मौके पर ही खाली करवाया और आरोपियों की गिरफ्तारी हो सकी।

महासमुंद में पुलिस ने 420 किलो गांजा के साथ उत्तर प्रदेश के दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों से बरामद गांजे की कीमत 84 लाख रुपए बताई गई है। आरोपी लोहे के पार्ट्स के बीच गांजा को छिपाकर अवैध रूप से परिवहन कर रहे थे। पुलिस ने दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया है।

कंट्रोल रूम में एसपी दिव्यांग पटेल, एडिशनल एसपी मेघा टेंभुरकर ने पत्रकारवार्ता में इस मामले का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि कोमाखान पुलिस राष्ट्रीय राजमार्ग-353 पर फारेस्ट नाका टेमरी के पास वाहनों की जांच कर रही थी। इसी दौरान मुखबिर से सूचना मिली कि बड़ी मात्रा में गांजा की तस्करी होने वाली है। इसके बाद सरहदी राज्य ओडिशा की ओर से तेजी से आ रहे ट्रक को रोका गया। ट्रक में सुन्नी कुमार (19) जलालपुर थाना करैल उत्तर प्रदेश तथा विष्णु जादौन (23) ग्राम पोस्ट मुरैना, जिला अलीगढ़ उत्तर प्रदेश बैठे थे। पूछताछ में उन्होंने बताया कि ट्रक में लोहे के पार्ट्स हैं, जिसे ओडिशा से महासमुंद होते हुए उत्तर प्रदेश ले जा रहे हैं।

पुलिस ने वाहन की तलाशी ली तो उसमें भारी मात्रा में गांजा मिला। आरोपी पार्ट्स के साथ गांजा छिपाकर ले जा रहे थे। कड़ाई से पूछताछ करने पर आरोपियों ने ओडिशा से गांजा लेकर उत्तर प्रदेश जाना बताया। दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर 420 किलो गांजा व ट्रक की जब्ती बनाई गई। पुलिस ने बरामद गांजे की अनुमानित कीमत 84 लाख आंकी है। आरोपियों के खिलाफ कोमाखान थाने में धारा 20बी नारकोटिक्स एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

error: Content is protected !!