Breaking News
.

स्वछंद कविताओं का बढ़ता चलन…

जब से कोरोना आया है तब से जीवन में हमारे बहुत बदलाव आया है। घर में रहने के कारण हम लोगों के पास समय है या यूँ कहे कि अपने से खुद बातें करने का समय आ गया। हम लोगों ने अपने को फिर से जानने की कोशिश की और पाया कि अभी हमारे अन्दर कुछ ऐसा है जिसे विकसित किया जा सकता है या एक मौका है फिर से अपने गुण को निखारने का।

 

और इसी दौर में लेखन या कविताओं का दौर आया। हम लोगों ने पाया कि हर घर में कोई ना कोई व्यक्ति है जो लिख सकता है। हुआ भी यही सबने लिखना शुरू कर दिया। फिर क्या था ऑनलाइन मंच खुले और कविता पाठ प्रारम्भ हुआ। सब बढ़- चढ़ कर हिस्सा लेने लगे।

 

 

अगर में ये कहूँ कि हिंदी साहित्य में एक क्रांति आ गयी और कोरोना के समय में जो कवि या कवित्रीयों ने जन्म लिया। उन्हें “कोरोना कालीन” कवि या कवित्री कहा जाये तो अतिशयोक्ति नहीं होगी। मेरा तो मानना है कि आगे हिंदी साहित्य मे  ये समय “कोरोना कवि युग “कहलायेगा।

 

 

अब बात आती है लेखन की। बहुत से ज्ञानी जो सब विधाओं में कुशल है उन्होंने अपनी लेखनी उन पर चलायी। लेकिन मेरे जैसे अज्ञानियों  ने सिर्फ अपनी भावनाओं को लिखा।

 

अगर पति से लड़ाई हो गयी तो लिख डाला अपने भावों को, अगर किसी ने कुछ कह दिया तो उसे लिख दिया। यहाँ तक सास- ननद से हुई तकरार भी भावनाओं में  वह गयी और अनजाने में उसने कविता का रूप ले लिया।

 

ज्ञानी,विद्वानों ने जब उसे पढ़ा तब प्यार से समझाने का प्रयास किया कि इसे छंद में लिखों और फिर सिलसिला गुरू- शिष्य के रिश्तों का हुआ। बहुत सुधार भी आया, बहुत सी चीजें समझ भी आई। लेकिन ऐसा लगा कि नियमों में बांधने के चक्कर में भावनाएँ खुल के नहीं आ पा रही। कवितायें घुट सी जा रही है या नियमों में बांधने के चक्कर में भावनाएँ बिखर जा रही है।

 

फिर क्या था छन्द मुक्त कविताओं का चलन आ गया। बहुत से लोगों ने छन्द मुक्त कविताओं को लिखना शुरू कर दिया।

 

मुझे लगता है कि आजकल के आधुनिक समय में जहाँ बच्चे इंग्लिश मीडियम में पढ़ते है,मल्टी नेशनल कंपनी में काम करते है समय का बहुत ही अभाव है।

 

“सबसे खास बात  अपनी मातृ भाषा का ही ज्ञान नहीं है क्योंकि उसका स्थान अब इंग्लिश ने ले लिया है। सिर्फ इंग्लिश में लिखना और बोलना आदत में आ गया है। हम अपनी हिंदी भाषा से दूर होते जा रहे है । जब भाषा ही नहीं पढ़ते तो उसका साहित्य ही क्या समझेंगे।

 

आजकल व्यक्ति बातों को कुछ सैकंड़ में समझना चाह्ता है। वो जटिलताओं से दूर भागता है। उसे सिर्फ जल्दी में समझना होता है और ऐसे समय में छन्द मुक्क्त कविताये उसे ज्यादा पसंद आती है।

 

 

मेरा भी मानना ये है छंद मुक्त कविताओं में अगर भावनाओं को कहने और लोगों में संदेश भेजने की शक्ति है तो गलत नहीं है। हाँ ये जरूर है कवितायें तुकान्त में हो और जो कविता लिखने के सामान्य नियम हो उसका पालन करने वाली हो।

 

दोस्तों आप लोगों का क्या विचार है। कृपया अपने विचार जरूर बताये। इन्तज़ार रहेगा आप लोगों के विचारों को जानने का, धन्यवाद।

 

झरना माथुर

error: Content is protected !!