Breaking News
.

दिल्ली में तेजी से सामने आ रहे कोरोना मरीजों के बीच सरकार ने लिया बड़ा फैसला, अब फिर पूरी क्षमता से चलेंगी मेट्रो-बसें ….

नई दिल्ली। देश के 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के अब तक 1,892 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 766 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं या विदेश चले गए हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मंगलवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, नए वैरिएंट के महाराष्ट्र में सबसे अधिक 568 मामले सामने आए हैं। इसके बाद दिल्ली में 382, केरल में 185, राजस्थान में 174, गुजरात में 152, और तमिलनाडु में 121 मामले सामने आए हैं। ओमिक्रॉन के 1,892 मरीजों में से 766 मरीज रिकवर हो गए हैं। 

दिल्ली सरकार ने राजधानी में कोरोना संक्रमण के बढ़ते हुए मामले को देखते हुए वीकेंड कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया है। अब शुक्रवार रात 10:00 बजे से लेकर सोमवार सुबह 5:00 बजे तक सिर्फ जरूरी सेवाओं को छोड़कर बाकी सब कामों पर पाबंदी रहेगी। हालांकि, अब दिल्ली में मेट्रो और बसें फुल कैपेसिटी में चलेंगी। इस दौरान सभी यात्रियों का मास्क पहनना जरूरी होगा।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को बताया कि बस स्टैंड और मेट्रो स्टेशन पर भीड़ से बचने के लिए दिल्ली में बसें और मेट्रो 100 प्रतिशत क्षमता के साथ चलेंगी, बिना मास्क के किसी को भी यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी।

सिसोदिया ने कहा कि सरकार का मानना है कि आधी क्षमता करने से बस स्टैंड और मेट्रो स्टेशन के बाहर लग रही लाइन से कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने का खतरा अधिक हो सकता है।

इसके साथ ही सरकार ने यह भी फैसला लिया है कि अब सरकारी कर्मचारी ऑनलाइन या वर्क फ्रॉम होम करेंगे। सिर्फ जरूरी सेवाओं से जुड़े विभागों के अधिकारी व कर्मचारी ही दफ्तर आएंगे और निजी कार्यालयों में भी 50% क्षमता से ही काम करेंगे। उन्होंने कहा कि दिल्ली में अभी 11 हजार अधिक एक्टिव कोविड केस हैं। इनमें 350 के करीब अस्पताल में भर्ती हैं, जिसमें 124 ऑक्सीजन बेड पर हैं।

error: Content is protected !!