Breaking News
.

फेडरेशन ने कोरोना ड्यूटी में लगे शिक्षकों को भी संक्रमित होने एवं असामयिक मृत्यु होने पर मिले 50 लाख की राशि देने की मांग …

पेंड्रा। गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले के छत्तीसगढ़ प्रदेश शिक्षक फेडरेशन के जिला अध्यक्ष ने सरकार से मध्यप्रदेश एवं राजस्थान के तर्ज पर कोरोना ड्यूटी में लगे समस्त शिक्षकों को फ़्रंट लाईन वरियर मानते हुये कोरोना से संक्रमित होने या उससे मृत्यु होने पर 50 लाख रुपये का बीमा देने का आग्रह किया है। साथ ही आलोक शुक्ला ने कहा कि राजस्थान सरकार ने अपने राज्य में संविदा कर्मचारियों को भी फ़्रंट लाईन वरियर मानते हुए 50 लाख का बीमा, असामयिक मृत्यु होने पर लाभ देने की बात कहा है और इसका विधिवत आदेश भी राज्य सरकार ने जारी किया है। परन्तु छत्तीसगढ़ में शिक्षकों को इससे वंचित रखना शिक्षकों के साथ अन्याय ही है।

टीकाकरण, चेक पोस्ट, स्कूल संचालन, मध्यान्ह भोजन सूखा राशन वितरण सहित सभी दिए गए कार्यों को शिक्षक बिना किसी प्रशिक्षण एवं सुविधा किट के जान जोखिम में डालकर कार्य कर रहे हैं।

अत: हम सरकार से मांग करते हैं कि हमारे छत्तीसगढ़ के फ़्रंट लाईन वरियर को भी 50 लाख की सहायता राशि प्रदान करें। जिससे कोरोना संक्रमण से कालकलवित हो रहे शिक्षकों के परिवार को आर्थिक परेशानियों का सामना ना करना पड़े।

error: Content is protected !!