Breaking News
.

रेसलर को कोच ने उतारा मौत के घाट, घायल मां ने लगाया गंभीर आरोप…

नई दिल्ली। बुधवार को 20 वर्षीय रेसलर निशा दहिया और उसके 18 वर्षीय भाई सूरज दहिया को सोनीपत में गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस घटना में गंभीर रूप से घायल रेसलर की मां ने कोच और उनके साथियों पर आरोप लगाते हुए कहा है कि कोच उनकी बेटी के साथ बदतमीजी करता था।

पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक निशा की मां का रोहतक पीजीआई में इलाज चल रहा है। उनके पिता सीआरपीएफ इंस्पेक्टर के पद पर श्रीनगर में तैनात हैं और उन्हें कल तकरीबन दोपहर 2 बजे हुई इस घटना की सूचना दे दी गई है।

पुलिस को दिए गए बयान में रेसलर की मां धनपति ने कोच पवन पर आरोप लगाए हैं। मां ने बताया ने उनकी बेटी द्वारा कोच पर बदसलूकी और छेड़छाड़ करने का आरोप लगाने के बाद उसने (कोच ने) उन पर गोली चलवा दी।

पुलिस को दिए गए स्टेटमेंट में रेसलर की मां धनपति ने पूरी आपबीति सुनाते हुए बताया कि,’निशा ने पहले भी इसकी जानकारी दी थी कि कोच पवन उसके साथ बदतमीजी करता है। कई बार इस मामले पर बात करने के बाद भी वो नहीं माना। आज भी दिनचर्या के हिसाब से ही वे दोपहर 1 बजे एकेडमी गई। कुछ देर बाद पवन की कॉल आई और उसने कहा कि निशा की तबीयत सही नहीं है, आप लोग उसे ले जाइए आकर।’

उन्होंने आगे बताया कि,’मैं और मेरा बेटा मोटरसाइकिल से एकेडमी पहुंचे। जहां हमने देखा कि पवन, उसकी पत्नी और करीब दो अन्य लोग निशा की ओर भाग रहे थे। निशा ने बताया कि पवन ने उसके साथ बदसलूकी की और उसे व उसके परिवार को जान से मारने की धमकी भी दी।’

धनपति ने बताया कि,’इसी बीच पवन ने बंदूक निकालकर निशा के ऊपर गोलियों की बौछार कर दी। जिसके बाद निशा वहीं मेन गेट के पास गिर गई और मैं व मेरा बेटा निशा की तरफ भागे। इसी बीच उसने मेरे ऊपर गोली चलाई और मेरे बेटे को गोली मारकर वहीं मार डाला।’

खरखोदा पुलिस के एएसपी मयंक गुप्ता ने बताया कि,’प्रारंभिक जांच-पड़ताल के बाद कोच पवन के खिलाफ की शक की सुई घूम रही है और उसके कुछ साथियों की भी इस मामले में शामिल होने की आशंका जताई जा रही है। फिलहाल अभी सब फरार हैं और हम उन्हें ट्रेस करने की कोशिश में लगे हुए हैं।’

उन्होंने आगे कहा कि, ‘कोच द्वारा संचालित एकेडमी का नाम सुशील कुमार एकेडमी है लेकिन इसमें ओलंपिक मेडलिस्ट सुशील कुमार का कोई लिंक नहीं दिख रहा है। इस घटना के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने एकेडमी में आग भी लगा दी है।’

इसके अलावा खरखोदा एसएचओ करमजीत सिंह का कहना है कि,’कोच पवन निशा के साथ बदतमीजी और छेड़छाड़ कर रहा था। जिस कारण रेसलर ने अपने भाई और मांच को ऑन द स्पॉट बुलाया। पवन उस वक्त अपनी पत्नी और 2-3 अन्य रिश्तेदारों के साथ था। गोलीबारी के बाद वे सभी लोग वहां से भाग गए। निशा यहां करीब पिछले 3 साल से ट्रेनिंग कर रही थी।’

निशा के रिस्तेदार दीपक ने बताया कि घटना को अंजाम देने के बाद, वे लोग (आरोपी) एकेडमी में लगे सीसीटीवी उखाड़कर वहां से भाग गए। इस मामले पर पुलिस का कहना है कि इस हत्या के पीछे का कारण ढूंढने के लिए क्राइम ब्रांच की चार टीमें आरोपियों की तलाश में जुटी हैं।

गौरतलब है कि शुरुआती रिपोर्ट्स में इस घटना में निशा दहिया के नाम को लेकर कंफ्यूजन पैदा हो गया था। कुछ घंटों बाद अंडर-23 की जूनियर रेसलर और ब्रॉन्ज मेडलिस्ट निशा दहिया ने वीडियो जारी कर ये जानकारी दी थी कि वे सुरक्षित हैं। ये निशा दहिया वो नहीं हैं, जिनकी हत्या हुई है वे कोई और हैं।

error: Content is protected !!