Breaking News
.

सिर फुटौवल में पर बोले सीएम- दुर्भाग्यजनक, संगठन को इसका संज्ञान लेना चाहिए…

रायपुर। पीसीसी महामंत्री का कॉलकर पकड़कर उसके साथ धक्का-मुक्की करना दुर्भाग्यजनक हैं। संगठन को इस पर संज्ञान लेना चाहिए। यह बातें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार को छत्तीसगढ़ कांग्रेस के मुख्यालय राजीव भवन में हुई सिर फुटौवल पर पत्रकारों से चर्चा के दौरान कहीं। मालूम हो कि शनिवार को छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार मंडल के अध्यक्ष सुशील सन्नी अग्रवाल ने प्रदेश महामंत्री अमरजीत चावला का कॉलर पकड़कर धक्कामुक्की की थी।

दरअसल, शनिवार को कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम राजीव भवन पहुंचे थे। उनके स्वागत के लिए संगठन महामंत्री चंद्रशेखर शुक्ला, महामंत्री अमरजीत चावला और कुछ दूसरे पदाधिकारी मुख्य द्वार के बाहर खड़े थे। इसी बीच छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार मंडल के अध्यक्ष सुशील सन्नी अग्रवाल भी वहां पहुंच गए। चावला ने अग्रवाल को अपनी गाड़ी किनारे लगाने को कह दिया। इस पर भड़के सन्नी अग्रवाल ने गाड़ी से उतरकर चावला का कॉलर पकड़ लिया। उसके बाद दोनों नेता एक-दूसरे पर चिल्लाने लगे। धक्का-मुक्की शुरू हो गई। यह देखकर वहां मौजूद दूसरे नेताओं ने बीच-बचाव कर दोनों को छुड़ाया।

घटना के बाद वरिष्ठ नेताओं ने चुप्पी साध ली, लेकिन कुछ घंटों के भीतर सीन बदला। प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम के आदेश पर सन्नी अग्रवाल को कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया। मुख्यमंत्री के बयान से संकेत मिल रहे हैं कि सरकार सन्नी अग्रवाल के मामले को फिलहाल संगठन स्तर पर ही निपटाना चाहती है। कांग्रेस नेता के तौर पर भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार मंडल के अध्यक्ष पद पर अभी उन्हें कोई खतरा नहीं है।

जशपुर में 24 अक्टूबर को जिला कांग्रेस के कार्यकर्ता सम्मेलन में भी मारपीट हुई थी। इसमें मंच पर भाषण दे रहे पूर्व जिलाध्यक्ष पवन अग्रवाल से माइक छीना गया। उनके साथ मारपीट हुई। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उस घटना को भी दुर्भाग्यपूर्ण बताया था। हालांकि उस मामले में कोई एक्शन नहीं हुआ।

कांग्रेस के संविधान के मुताबिक कांग्रेस ने मारपीट और अभद्रता के आरोप में सुशील सन्नी अग्रवाल को निलंबित किया है। बताया जा रहा है, अब उनको नोटिस जारी कर जवाब लिया जाएगा। पार्टी मामले की जांच करेगी। उसके बाद निष्कासन अथवा सदस्यता बहाली का फैसला होगा। पार्टी सूत्रों का कहना है, अभी के समीकरणों को देखते हुए कुछ समय बाद सन्नी अग्रवाल का निलंबन वापस भी लिया जा सकता है।

error: Content is protected !!