Breaking News
.

गहलोत-सचिन कैंप में फिर खींचतान, कांग्रेस विधायक वेदप्रकाश बोले- ‘पायलट को लाओ और राजस्थान को बचाओ’ …

जयपुर। राजस्थान में राज्यसभा चुनाव होने के बाद एक बार फिर गहलोत और पायलट कैंप के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। सचिन पायलट समर्थक विधायक वेदप्रकाश सोलंकी ने एक बार फिर सचिन पायलट को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाने की मांग की है। करौली के श्रीमहावीर में हुई जनसभा को संबोधित करते हुए विधायक वेदप्रकाश सोलंकी ने इशारों-इशारों में सीएम अशोक गहलोत पर जमकर निशाना साधा। पायलट समर्थक विधायक ने सोलंकी ने कहा कि हम कांग्रेस के हितैषी हैं। कांग्रेस की सरकार दोबारा कैसे बने यह सब जानते हैं। उन्होंने नारा दिया- “पायलट को लाओ और राजस्थान बचाओ”।

मतलब साफ है कि राजस्थान में राज्यसभा चुनाव में भले ही कांग्रेस को सभी विधायकों ने वोट दिया हो लेकिन अभी प्रदेश में गहलोत पायलट के बीच कुर्सी का संघर्ष जारी रहेगा। पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट 10 जून को राज्यसभा का वोट डालते ही करौली के श्रीमहावीर पहुंचे। जहां उन्होंने शहीद इंस्पेक्टर हनुमंत सिंह एवं कांस्टेबल विमल सिंह की मूर्ति का अनावरण कर विशाल किसान सम्मेलन को संबोधित किया था।

पायलट कैंप के विधायक वेद सोलंकी ने कहा कि किसानों की आवाज उठाकर सबसे पहला आंदोलन जयपुर में सचिन पायलट ने ही किया था। आज सभा स्थल में तापमान की बात हो रही है और कहा जा रहा है कि 40 डिग्री टेंपरेचर ऊपर और 40 डिग्री टेंपरेचर नीचे है ,लेकिन लोगों के दिलों में कितना टेंपरेचर है इसे कौन नापेगा? इस टेंपरेचर को नापने का समय कब आएगा ?क्योंकि अब समय नहीं है। अब समय यही है कि “पायलट को लाओ और राजस्थान को बचाओ “. सोलंकी ने कहा कि पायलट ने बहुत कुछ किया है अब हम विधायकों की बारी है। जहां सचिन पायलट का पसीना गिरेगा हम वहीं आहुति देने को तैयार हैं।

समारोह को संबोधित करते हुए सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस ही किसानों की सच्ची हितैषी पार्टी है। कांग्रेस के राज में ही किसानों का कल्याण हुआ है। पायलट ने कहा कि भाजपा ने आंदोलनकारी किसानों पर गोलियां चलवाई। किसानों पर अत्याचार किए। भाजपा किस मुंह से किसानों की भलाई की बात करते हैं। पायलट ने कहा कि मैं पार्लियामेंट से पेंशन भी लेता हूं ऐसे में पूर्व सांसद भी हूं। मैं पूर्व उप मुख्यमंत्री, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ,पूर्व सांसद बन चुका हूं अब और कितने पूर्व लगाओगे मेरे नाम के पीछे।

error: Content is protected !!