Breaking News
.

भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की बंपर एंट्री से सपा का बढ़ा बाहूबल, क्यों हो सकता है घाटा, यहां जानें …

नई दिल्ली। बंगाल में चुनाव से पहले भाजपा ने बड़ा माहौल बनाया था। टीएमसी से करीब 140 नेताओं ने भाजपा का दामन थामा। पूर्व रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी समेत कई दिग्गज नेता इनमें शामिल थे। कुल ऐसे 35 विधायक थे, जो टीएमसी से भाजपा में आए थे। इसके चलते भाजपा को टीएमसी से बराबर की टक्कर में माना जाने लगा था। लेकिन नतीजे आए तो बड़ा अंतर सामने था। फिर वही नेता खुद टीएमसी में ही चले गए। उनके चुनाव से पहले टूटने की वजह यह थी कि टीएमसी में उनके सामने टिकट कटने का खतरा था। ऐसे में वह भाजपा में चले गए और फिर जीत या हार के बाद ज्यादातर सत्ताधारी दल में ही लौट आए।

भाजपा की यूपी सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य के सपा में जाने की काफी चर्चाएं हो रही हैं। समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने उनकी एंट्री को अगड़ा बनाम पिछड़ा के तौर पर प्रोजेक्ट करने की कोशिश की है। इसके साथ ही उन्होंने ‘मेला होबे’ लिखते हुए कुछ और नेताओं के भी स्वागत की बात कही है। साफ है कि वह भाजपा से आने वाले नेताओं को लेने के लिए तैयार हैं। उसे वह एक बड़ी बढ़त के तौर पर प्रचारित करना चाहते हैं, लेकिन यह नतीजे आने तक यह बातें अफसाना ही हैं। दरअसल यूपी की राजनीति की समझ रखने वाले कुछ लोगों का मानना है कि अखिलेश यादव भाजपा से आए नेताओं की ताबड़तोड़ एंट्री कराके बंगाल में भाजपा जैसी गलती ही दोहरा रहे हैं।

यहां तक कि सीटें जीतने के मामले में भाजपा के लिए फिसड्डी साबित हुए। भाजपा ने टीएमसी से आए 19 विधायकों को चुनाव में उतारा था, लेकिन इनमें से 6 को ही जीत मिल पाई थी। इसकी वजह यह थी कि ये नेता अपने साथ ऐंटी-इनकम्बेंसी लेकर आए थे। जनता इनसे नाराज थी और टीएमसी इनमें से ज्यादातर को टिकट देने के मूड नहीं थी। ऐसे में टीएमसी के लिए यह स्थिति आरामदायक रही और उसके ऐंटी-इनकम्बैंसी से बचते हुए नए नेताओं को मौका दिया और बहुमत हासिल किया। भाजपा को लेकर भी कहा जा रहा है कि यूपी में वह बड़ी संख्या में टिकट काटने की तैयारी में है। इसकी वजह से भी तमाम नेता भाजपा से पलायन कर रहे हैं।

error: Content is protected !!