Breaking News
.

जांच कमेटी के सामने शैलेष पाण्डेय ने कहा- उनकी कोई इज्जत नहीं है, उन्हें कोई भी कुछ कह देता है, कोई भी उनका कॉलर पकड़ लेता है…

बिलासपुर। शहर विधायक और कांग्रेस कमेटी शहर उपाध्यक्ष मामले में जांच कमेटी के समक्ष कांग्रेस के पदाधिकारी उपस्थित हुए। इस दौरान शहर विधायक ने कमेटी के सामने कहा कि उनकी कोई इज्जत नहीं है। उन्हें कोई भी कुछ भी कह देता है। कोई उनका कॉलर पकड़ लेता है तो  कोई उन्हें पैराशूट विधायक कहकर उनका निरादर कर देता है। जांच कमेटी के अध्यक्ष पूर्व महापौर राजेश पांडे, जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष भुवनेश्वर यादव और पार्षद संध्या तिवारी शामिल है।

मालूम हो कि पिछले दिनों बिलासपुर में जमीन हड़पने के मामले में खबर प्रकाशित किया गया था। जिसमें एक पत्रकार को धमकाने की शिकायत सामने आई थी। इसी मामले में पत्रकार के खिलाफ शिकायत कराने कांग्रेस कमेटी के शहर उपाध्यक्ष अकबर खान सिविल लाइन थाने पहुंचे थे। बताया जा रहा है कि बातचीत के दौरान उन्होंने बिलासपुर विधायक के खिलाफ आपत्तिजनक शब्द कहे थे। जिस पर नाराज एल्डरमेन और पार्षदों ने आईजी व एसपी को ज्ञापन सौंपकर अकबर खान के खिलाफ उचित कार्रवाई करने की मांग की थी।

वहीं कांग्रेस कमेटी ने तीन सदस्यीय टीम का गठन कर मामले की जांच में जुटी थी। इसके लिए उन्होंने शैलेश पाण्डेय और अकबर खान को अपनी बात कमेटी के समक्ष रखने बुलाया था। समिति के समक्ष उपस्थित होने के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए अकबर खान ने वीडियो को फर्जी करार दे दिया। उन्होंने कहा कि वह सिविल लाइन थाने में पत्रकार के खिलाफ शिकायत करने गए थे और इस दौरान सामान्य चर्चा के बीच उन्होंने शहर की पस्त हालत के लिए विधायक शैलेश पांडे और अटल श्रीवास्तव को दोषी कहा था। लेकिन उनके वीडियो को एडिट कर उसे वायरल किया गया है। अकबर खान ने कहा कि वे विधायक शैलेष पांडे का सम्मान करते हैं।

मामले में पीड़ित विधायक शैलेश पांडे ने कहा कि अकबर खान का वीडियो सार्वजनिक है, इसलिए इस पर कहने-सुनने जैसी कोई बात ही नहीं है। उन्होंने पार्टी फोरम में अपनी बात रख दी है और अब वे न्याय की उम्मीद कर रहे हैं । उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं से पार्टी की छवि खराब होती है इसलिए पार्टी को ऐसे मामलों में संज्ञान लेने की आवश्यकता है।

error: Content is protected !!