Breaking News
.

संजय त्रिपाठी ने दुष्कर्मी महाराज को भागने में की थी मदद, शिवराज मामा का चला बुलडोजर …

रीवा। योगी के पदचिन्हों पर चल रहे शिवराज सिंह चौहान इन दिनों मीडिया में छाए हुए हैं। यूपी सीएम की तर्ज पर वे भी फैसले ऑन-द-स्पॉट करने में विश्वास करने लगे हैं। यही वजह है कि शिवराज मामा का एक बुलडोजर हिस्ट्रीसीटरों की लिस्ट लिए घूम रहा है और उनके मकान-दुकान-भवन आदि को जमीदोंज कर रहा है। आने वाला समय बताए कि क्या वे योगी के पदचिन्हों पर चलते हुए गुंडों का ऑन-द-स्पॉट एनकाउंटर कराने का दम-खम भी रखते हैं या सिर्फ बुल्डोजर तक ही सीमित रह जाएंगे।

मध्य प्रदेश में दुष्कर्म के आरोपी दुष्कर्मी महाराज सीताराम की मदद करने के आरोप में जेल गए अखिल भारतीय राष्ट्रीय ब्राह्मण समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय त्रिपाठी के निर्माणधीन कांप्लेक्स के अवैध हिस्से पर मामा का बुलडोजर चल गया। कांप्लेक्स को ढहाने के लिए लाव लश्कर के साथ प्रशासन की टीम पहुंची और निर्माणाधीन कंपलेक्स को धराशायी करने की प्रक्रिया शुरू की। भारी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी में यह कार्रवाई की गई।

रीवा के सर्किट हाउस में हुए दुष्कर्म के मामले में शामिल आरोपियों के घरों पर मामा के बुलडोजर का कहर लगातार जारी है। मुख्य आरोपी सीताराम और विनोद पांडेय के घरों पर पहले ही प्रशासन ने बुलडोजर चला दिया था। अब रविवार को लाव लश्कर के साथ पहुंची पुलिस की टीम ने रेलवे तिराहे के पास संजय त्रिपाठी के निर्माणधीन भवन के अवैध हिस्से को गिरा दिया गया। इसे गिराने की तैयारी शनिवार से ही शुरू कर दी गई जिसे रविवार को पूरा कर दिया गया।

बाबा सीताराम से पूछताछ के दौरान कई अहम राज उजागर हुए थे। इस दौरान अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय त्रिपाठी और उनके भांजे अंशुल मिश्रा का नाम सामने आया था। इन दोनों पर बाबा को भगाने और संरक्षण देने का आरोप लगा था। बाबा सीताराम दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने के बाद फरार होकर संजय त्रिपाठी के फार्म हाउस में रुका था। इसके बाद त्रिपाठी की फार्च्यूनर गाड़ी से ही उसे सीधी के लिए भगा

बाबा के खुलासे के बाद पुलिस ने संजय त्रिपाठी और उसके भांजे अंशुल को भोपाल से गिरफ्तार कर लिया था। दोनों को शनिवार को बाबा के साथ न्यायालय में पेश किया गया था, जहां से उन्हे जेल भेज दिया गया था। शनिवार को जिला कलेक्टर और एसपी ने संजय त्रिपाठी के निर्माणधीन कांप्लेक्स का निरीक्षण किया था। जिसके बाद रविवार को उसके अवैध हिस्से को गिरा दिया गया।

error: Content is protected !!