Breaking News
.

रिलीज़ से पहले साधु-संत फिल्म को देखकर तय करेंगे कि उसमें विवादित विषय न हो : प्रज्ञा सिंह…

भोपाल। वेब सीरिज आश्रम-3 की शूटिंग को लेकर विवाद गरमाता जा रहा है। शूटिंग के दौरान बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की तरफ से गई मारपीट पर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने राज्य सरकार से ट्वीट कर सवाल पूछा है कि – मध्यप्रदेश की जनता इस तरह के गुण्डों को कब तक बर्दाश्त करेगी‌? वहीं भोपाल सांसद प्रज्ञा सिंह का कहना है कि फिल्म को रिलीज से पहले साधु-संत देखेगें और तय करेंग कि उसमें कोई विवादित बयान न हो।

आश्रम -3 वेब सीरीज़ को लेकर विवाद गरमाता जा रहा है। इस वेब सीरीज की शूटिंग के दौरान बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की तरफ से की गई मारपीट पर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने राज्य सरकार से सवाल पूछा है। उन्होंने अपने एक ट्वीट में लिखा, “मध्यप्रदेश की जनता इस तरह के गुण्डों को कब तक बर्दाश्त करेगी?”

बता दें कि बजरंग दल की इस कार्यशैली पर आपत्ति जताते हुए राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से सवाल पूछते हुए दिग्विजय सिंह ने ट्वीट में लिखा, “भोपाल फ़िल्मों की शूटिंग के लिए काफ़ी लोकप्रिय हो गया है। प्रकाश झा देश के ख्याति प्राप्त फ़िल्म निर्माता हैं। क्या प्रकाश झा की यूनिट को भोपाल पुलिस द्वारा संरक्षण नहीं देना चाहिए था?”

उन्होंने पूछा, “मुख्यमंत्री जी, गृहमंत्री जी मध्यप्रदेश की जनता आपके पाले हुए गुण्डों को कब तक बर्दाश्त करेगी?” बता दें कि बीते रविवार को प्रकाश झा की आगामी वेब सीरीज ‘आश्रम 3’ की शूटिंग के दौरान बजरंग दल के लोगों ने हंगामा कर दिया था। शूटिंग के दौरान क्रू मेम्बर्स के साथ मारपीट की गई और निर्माता-निर्देशक प्रकाश झा पर स्याही फेंकी गई। बजरंग दल द्वारा इस सीरीज का नाम बदलने की मांग की गई है। वहीं ऐसा ना करने पर इसे रिलीज़ नहीं होने की चेतावनी दी गई है।

इस सीरीज को लेकर साधु-संतों के एक प्रतिनिधिमंडल ने 25 अक्टूबर को भोपाल सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर से मुलाकात की थी। मुलाकात के बाद प्रज्ञा सिंह ने मीडिया को जानकारी दी कि उनका संगठन भारत भक्ति अखाड़ा एक ऐसी व्यवस्था बनाएगा, जिसके जरिए रिलीज़ से पहले साधु-संत फिल्म को देखकर तय करेंगे कि उसमें विवादित विषय न हो। प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि, ‘हम अभी तक फिल्म नहीं देखते थे, अपनी ध्यान साधना रहते थे लेकिन अब भारत भक्ति अखाड़ा एक डिपार्टमेंट बनाएगा। जोकि इस तरह की फिल्मों पर नजर रखेगा। हम देखेंगे कि उसमें धर्म, धर्मगुरुओं, धर्मशास्त्रों, धर्मध्वजा, धरा, धन, धरोहर का उपहास ना उड़ाया गया हो।

error: Content is protected !!