Breaking News
.

खूब बिक रहे रूस के हथियार, तालिबानी खतरे से निपटने को तैयारी में जुटे अफगानिस्तान के पड़ोसी देश …

मॉस्को। रूस के हथियार निर्यातक रोसोबोरोनेक्सपोर्ट के प्रमुख एलेक्जेंडर मिखीव के प्रमुख ने कहा, ”हम इस क्षेत्र में स्थित देशों से रूसी हेलिकॉप्टर, हथियार और आधुनिक सीमा सुरक्षा सिस्टम के कई ऑर्डर पर पहले से काम कर रहे हैं।” अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद दक्षिण से मध्य एशिया के कई देशों की चिंता बढ़ गई है और अपनी सुरक्षा के लिए कई देशों ने हथियारों की खरीदारी बढ़ा दी है। रूस ने गुरुवार को कहा कि तालिबान के कब्जे के बाद इसे अफगानिस्तान की सीमा से सटे मध्य एशिया के देशों से हथियारों और हेलिकॉप्टर्स के नए ऑर्डर मिले हैं। पूर्व सोवियत क्षेत्र के देशों ने आतंकी संगठन के सत्ता में आने को लेकर चिंताएं जाहिर की हैं।

रूस काबुल में नए नेतृत्व को लेकर कुछ सकारात्मक दिख रहा है, लेकिन इसने पड़ोसी देशों को शरणार्थी के रूप में आतंकवादियों के घुसने को लेकर चेतावनी दी है। अफगानिस्तान की सीमा के पास उज्बेकिस्तान और ताजिकिस्तान ने रूस के साथ मिलकर इसी महीने सैन्य अभ्यास किया है। मॉस्को के नेतृत्व में CSTO के सदस्य देश किर्गीस्तान में 7 से 9 सितंबर के बीच अभ्यास करेंगे।

तालिबान ने कहा है कि इससे मध्य एशिया के देशों को कोई खतरा नहीं है। लेकिन इस क्षेत्र के पूर्व सोवियत गणराज्यों को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने निशाना बनाया है। 15 अगस्त को काबुल पर कब्जे के बाद तालिबान ने कहा है कि वह किसी और देश के लिए खतरा उत्पन्न नहीं करेगा, लेकिन दुनिया को कट्टरपंथी विद्रोही गुट पर भरोसा नहीं है।

error: Content is protected !!