Breaking News
.

आरटीआई में हुआ खुलासा, शाहनवाज हुसैन और जनकराम संसद से पेंशन और विधानसभा से लेते हैं वेतन…

पटना। बिहार के दो मंत्री सरकार से तो वेतन पा ही रहे हैं और संसद से भी उन्हें पेंशन मिल रहा है। यह खुलासा आरटीआई के द्वारा हुआ। लेकिन, सबसे ज्यादा चौंकानेवाला नाम इसमें बिहार के 2 मंत्रियों और 2 MLC का है जिनपर वेतन के साथ पेंशन लेने के आरोप लग रहे हैं।

12 अक्टूबर 2021 को RTI के जरिए सामने आई इस सूची में बिहार सरकार के 2 मंत्रियों के नाम पेंशन पाने वालों की लिस्ट में हैं। इसमें पहला नाम बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन का है। इस लिस्ट में शाहनवाज हुसैन का नाम 1247 नंबर है। शाहनवाज हुसैन के अलावा जो दूसरे मंत्री इस लिस्ट में हैं वो है खान एवं भूतत्व मंत्री जनक राम। जनक राम का नाम इस लिस्ट में 1415वें नंबर पर है। पेंशन पाने वालों में इसके अलावा जदयू के विधान पार्षद उपेन्द्र कुशवाहा का नाम भी शामिल है, उनका नाम इस लिस्ट में 1676 नंबर पर है। वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग की तरफ से दी गई इस जानकारी में कुल 1981 नाम हैं। इसमें राज्यसभा और लोकसभा के उन पूर्व सदस्यों की सूची जो पेंशन पा रहे हैं। 207 नंबर पर इस सूची में भाजपा के नेता संजय पासवान का नाम है।

असल में उपेन्द्र कुशवाहा, डॉ संजय पासवान, शाहनवाज हुसैन और जनक राम चारों ही ऐसे नेता हैं जो संसद के सदस्य रह चुके हैं। शाहनवाज हुसैन, डॉ संजय पासवान और जनक राम लोकसभा के पूर्व सदस्य हैं तो उपेन्द्र कुशवाहा राज्यसभा और लोकसभा के पूर्व सदस्य रह चुके हैं। ऐसे में ये नेता संसद से पेंशन पाते रहे हैं, लेकिन अब जबकि ये सभी बिहार विधान परिषद के वर्तमान सदस्य हैं ये पेंशनर नहीं हो सकते हैं। वजह ये है कि शाहनवाज हुसैन और जनक राम को मंत्री के तौर पर वेतन, भत्ता और सुविधाएं मिल रही हैं तो उपेन्द्र कुशवाहा और संजय पासवान को MLC के तौर पर वेतन और भत्ता मिल रहा है।

हाईकोर्ट के वकील मधु प्रसून के मुताबिक संसद सदस्य वेतन, भत्ता और पेंशन अधिनियम 1954 के मुताबिक राज्य के किसी भी सदन का सदस्य, पूर्व सांसद के तौर पर पेंशन नहीं ले सकता। जनक राम और उपेन्द्र कुशवाहा 17 मार्च 2021 से MLC हैं तो शाहनवाज हुसैन 21 जनवरी 2021 से बिहार के MLC हैं। डॉ. संजय पासवान तो साल 2018 से ही बिहार विधान परिषद के सदस्य हैं। बिहार के RTI कार्यकर्ता शिव प्रकाश राय के आवेदन पर दी गई सूचना को लेकर भास्कर ने सभी नेताओं से संपर्क किया ।

मंत्री शाहनवाज हुसैन ने इस मामले में अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि उन्होंने 21 जनवरी 2021 को ही इसकी लिखित सूचना लोकसभा कार्यालय को दे ही है और उन्हें पता नहीं कि उनके खाते में पेंशन आ रहा है या नहीं? मंत्री जनक राम कहना है कि उन्हें पता ही नहीं इस मामले में नियम क्या है, यानी उन्हें इस बात की जानकारी नहीं कि वेतन के साथ पेंशन लेना गलत है। मतलब ये कि उन्हें पेंशन मिल रही है, हालांकि उन्होंने पेंशन खाते से पैसे निकालने के इनकार किया है।

संजय पासवान ने ये माना है कि वो संसद से पेंशन ले रहे हैं और इसके साथ ही वो यूनिवर्सिटी के रिटायर्ड प्रोफेसर के तौर पर भी पेंशन ले रहे हैं। हालांकि, उन्होंने MLC रहने के बावजूद बिहार विधान परिषद से सैलरी लेने से इनकार किया है।

error: Content is protected !!