Breaking News
.

मोदी से कभी खराब नहीं रहे संबंध, उद्धव की मुलाकात के दो सप्ताह के अंदर शिवसेना का पीएम के प्रति नरम रुख …

मुंबई। एनडीए से अलग होने के बाद एक बार फिर से शिवसेना ने पीएम मोदी को लेकर अपने रुख में नरमी दिखानी शुरू कर दी है। यह बदलाव खासतौर पर दो हफ्ते पहले हुई पीएम मोदी और उद्धव ठाकरे की मुलाकात के बाद से दिखने लगा है।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में नरमी के संकेत दिए हैं। दरअसल, संपादकीय में शिवसेना विधायक सरनाईक की सीएम ठाकरे को लिखी विवादित चिट्ठी का जिक्र किया गया है जिसमें एक बार फिर से बीजेपी संग गठबंधन करने को कहा गया था। संपादकीय में आगे लिखा है कि पार्टी के पीएम मोदी के साथ कभी भी तल्ख रिश्ते नहीं थे, ऐसे में उनसे सौहार्द्रपूर्ण रिश्ते बनाने का सवाल भी नहीं उठता।

संपादकीय में लिखा है, ‘महाराष्ट्र सरकार के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हमेशा अच्छे रिश्ते रहे हैं।’ संपादकीय में सरनाईक को भी संकेत दिए गए हैं कि पार्टी ने उन्हें विधायक बनाया है और वह पार्टी से ऊपर नहीं हैं।

संपादकीय में लिखा है, ‘आपातकाल के दौर में शिवसेना को कांग्रेस में विलीन करो, अन्यथा परिणाम भुगतो, ऐसे दबाव का शिकार होने की बजाय शिवसेना प्रमुख ने स्वाभिमान के साथ शिवसेना के अस्तित्व को बरकरार रखा। इसीलिए आज की शिवसेना तेज से चमकती नजर आती है। इस शिवसेना का शिवसेनाप्रमुख ने दहकते अंगारे के रूप में जतन किया। इसलिए आज आम युवकों का विधायक, सांसद और मंत्रिपद उपभोग करना आम हो गया है। किसी भी परेशानी, प्रताड़ना, न्याय-अन्याय की परवाह किए बगैर लड़ते रहनेवाला शिवसैनिक ही शिवसेना का ‘बल’ है। इस स्वबल पर कितना भी प्रहार करो, उस घाव से निकलनेवाले खून की हर बूंद से शिवसेना बार-बार जन्म लेती रहती है।’

error: Content is protected !!