Breaking News
.

अपमान-सम्मान की बहस को लेकर भाजपा और कांग्रेस ने सदन के 3 महत्वपूर्ण दिन कर दिए स्वाहा ….

नई दिल्ली। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपत्नि कहे जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। अब संसद में हंगामे के चलते लोकसभा और राज्यसभा को सोमवार तक के लिए स्थगित कर दिया है। इधर, भाजपा और कांग्रेस सांसद भी आमने-सामने आ गए हैं और माफी जारी करने की मांग कर रहे हैं।

गुरुवार को चौधरी ने एक टीवी चैनल से बातचीत में देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपत्नी कह दिया था। इसके बाद से ही यह मामला संसद में गर्मा गया था। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मामले में माफी की मांग की थी। उन्होंने महिला राष्ट्रपति के अपमान के आरोप लगाए थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, संसद में हंगामे के बाद जब गुरुवार को दोपहर 12 बजे संसद को स्थगित किया गया, तो कांग्रेस अध्यक्ष भाजपा सदस्य रमा देवी से बात करने पहुंचीं। वह जानना चाहती थीं कि मामले में उन्हें क्यों घसीटा जा रहा है। खबर है कि इस दौरान भाजपा की “स्मृति” बीच में पहुंचीं और गांधी से बात करने की कोशिश की। कहा जा रहा है कि सोनिया ने भाजपा की “स्मृति” के विरोध को नजरअंदाज कर नाराजगी भी जता दी।

अब सोनिया और भाजपा की “स्मृति” के बीच हुए तनाव के बाद कांग्रेस सांसदों ने गांधी प्रतिमा के सामने विरोध प्रदर्शन किया। सांसद सरकार से माफी की मांग कर रहे थे। कांग्रेस सदस्य सोनिया के साथ हुए गलत व्यवहार को लेकर विरोध जता रहे थे। उनके साथ आरएसपी और IUML सांसद भी शामिल हुए।

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि रंजन ने माफी नहीं मांगी है, दूसरी बात ये है कि जब द्रौपदी मुर्मू का नाम राष्ट्रपति पद के लिए नामित किया गया था तब भी कांग्रेस पार्टी द्वारा उन्हें अपमानित किया गया। इसे देखते हुए गांधी को माफी मांगनी चाहिए।

कांग्रेस सांसद रवनीत बिट्टू ने कहा कि भाजपा की “स्मृति” जब भी बोलती है, बखेड़ा खड़ा करती हैं। उन्हें सास-बहू वाली नोंकझोंक की आदत है, लेकिन यह लोकसभा है, यहां ऐसा नहीं चलेगा। माफी मांगनी पड़ेगी। जितनी देर माफी नहीं मांगेंगे नाक में दम कर देंगे।

भाजपा नेता निशिकांत दुबे ने कहा कि आज वे राष्ट्रपति के लिए घटिया बात करके माफी मांगने के बजाय लड़ाई पर उतारू हैं। ये लोग आदिवासी महिला को इस पद पर देखना नहीं चाहते हैं। प्रधानमंत्री गरीब परिवार से आते हैं और वे ट्रेन में चाय बेचते थे, उसको ये पचा नहीं पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक गरीब महिला पहली बार देश की राष्ट्रपति बनी हैं। गांधी परिवार के परिवारवाद को इससे बहुत बड़ा खतरा दिखाई दे रहा है। राजनाथ ने राजीव गांधी ट्रस्ट पर 2012 में छोटी सी बात कही थी। उस पर इन लोगों ने उन्हें 10 नोटिस भेज दिए थे।

इधर, चौधरी ने कहा, ‘कल मुझे संसद में मेरे खिलाफ तमाम का जवाब देने का मौका नहीं दिया गया था। मैंने आज संसद में जवाब देने का मौका मांगा है।’ उन्होंने कहा, ‘जिस तरह से कल संसद में सोनिया गांधी पर निशाना साधा गया.. सरकार को माफी मांगनी चाहिए। इस मामले में मैं केंद्र में हूं लेकिन भाजपा सोनिया जी पर हमला कर रही है।’

शुक्रवार को भाजपा की “स्मृति” ने द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात की। इस बात की जानकारी उन्होंने ट्वीट के जरिए दी। उन्होंने लिखा, ‘राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मिलने का सौभाग्य मिला।’ वहीं, केंद्रीय गृहमंत्री के भी राष्ट्रपति से मिलने की खबर सामने आई थी। इधर, चौधरी भी राष्ट्रपति से माफी मांगने की बात कह रहे हैं।

error: Content is protected !!