Breaking News
.

पुरुषेंद्र कौरव ने हाईकोर्ट जज की शपथ ली : चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक ने दिलाई शपथ…

जबलपुर। वरिष्ठ अधिवक्ता पुरुषेंद्र कौरव को आज शुक्रवार को चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक ने हाईकोर्ट जस्टिस पद की शपथ दिलाई। कौरव महाधिवक्ता से जस्टिस बनने वाले एमपी के पहले व्यक्ति हैं। कौरव ने महाधिवक्ता पद से 6 अक्टूबर को ही इस्तीफा दे दिया था, जिसे राज्यपाल ने 7 अक्टूबर को ही मंजूर कर लिया। इसी के साथ नए महाधिवक्ता को लेकर नए नामों की चर्चा भी तेज हो गई है।

 

रजिस्ट्रार जनरल राजेंद्र कुमार वाणी के मुताबिक हाईकोर्ट के साउथ ब्लाक सभागार में शपथ ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इस दौरान हाईकोर्ट की मुख्यपीठ जबलपुर, खंडपीठ इंदौर व ग्वालियर के सभी न्यायाधीश, स्टेट बार काउंसिल के चेयरमैन, हाईकोर्ट बार एसोसिएशन जबलपुर, इंदौर व ग्वालियर के अध्यक्ष, अतिरिक्त महाधिवक्ता, असिस्टेंट सालिसिटर जनरल, हाईकोर्ट एडवोकेट्स बार एसोसिएशन के अध्यक्ष व सीनियर काउंसिल के नव नियुक्त न्यायाधीश भी वर्चुअल शपथ ग्रहण में शामिल हुए।

 

ऐसा रहा हाईकोर्ट के जज बनने का सफर

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने 1 सितंबर को 45 वर्षीय पुरुषेंद्र कौरव के नाम की अनुशंसा की थी। 6 सितंबर को राष्ट्रपति ने इस अनुशंसा पर मंजूरी की मुहर लगा दी। कौरव वर्तमान में मप्र सरकार के महाधिवक्ता थे। महाधिवक्ता के पद से सीधे हाईकोर्ट में जज बनने वाले वे एमपी के पहले व्यक्ति बन गए हैं। 2009 में कौरव सबसे कम 33 वर्ष की उम्र में उप महाधिवक्ता, फिर अतिरिक्त महाधिवक्ता और जून 2017 में पहली बार महाधिवक्ता बनाए गए, तब शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने तत्कालीन एजी रवीश अग्रवाल का इस्तीफा मंजूर करने के बाद कौरव को दिल्ली से वापस बुलाकर यह जिम्मा सौंपा था। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार में वापसी के बाद उन्होंने पद छोड़ दिया था। प्रदेश में 15 महीने बाद फिर सत्ता बदली तो एक बार फिर पुरुषेंद्र कौरव एमपी के 18वें महाधिवक्ता बने। महाधिवक्ता पद संभाल चुके कई लोग हाईकोर्ट में जज बने, लेकिन पद संभालते हुए ऐसा पहली बार हुआ। वर्ष 2001 में एनईएस लॉ कॉलेज जबलपुर से कानून की पढ़ाई करने के बाद कौरव ने अपने मामा वीरेंद्र चौधरी के साथ जबलपुर से वकालत शुरू की। उन्होंने वर्ष 2006 में स्वतंत्र वकालत शुरू की और 15 साल में ही इस मुकाम तक पहुंच गए।

 

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से रहा जुड़ाव

नरसिंहपुर जिले में गाडरवारा तहसील के ग्राम डोंगर गांव में पुरुषेंद्र कौरव का जन्म 4 अक्टूबर 1976 को हुआ था। छात्र जीवन में कौरव का अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ाव रहा। वर्ष 2010 में उन्हें ABVP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया गया था। महाधिवक्ता रहे पुरुषेंद्र कौरव के हाईकोर्ट के जज बनने के बाद अब नए महाधिवक्ता की खोज शुरू हो गई है। सूत्रों की मानें तो इस रेस में अतिरिक्त महाधिवक्ता पुष्पेंद्र यादव को अभी महाधिवक्ता पद का प्रभार सौंपा जा सकता है। इसके साथ ही नए महाधिवक्ता के तौर पर पुष्पेंद्र यादव सहित पूर्व अतिरिक्त महाधिवक्ता प्रशांत सिंह व नमन नागरथ के अलावा इंदौर के पीयूष माथुर और ग्वालियर के एमपीएस रघुवंशी के नामों की चर्चाएं हैं।   

error: Content is protected !!