Breaking News
.

पंजाब कांग्रेस में बढ़ी हलचल, कैप्टन कल कर सकते हैं नई पार्टी की घोषणा…

चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस में कल सियासी धमाका हो सकता हैं। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नई पार्टी की घोषणा कर सकते हैं। इस वजह से पंजाब कांग्रेस के भीतर हलचल तेज हो गई है।

अमरिंदर के प्रेस कॉन्फ्रेंस का पता चलते ही कांग्रेस ने अपने विधायकों से संपर्क साध लिया है। इसके अलावा बड़े नेताओं की मूवमेंट पर भी नजर रखी जा रही है। चर्चा है कि अमरिंदर के साथ कांग्रेस के दिग्गज नेता भी कॉन्फ्रेंस में नजर आ सकते हैं।

खासकर, चरणजीत चन्नी के CM बनने के बाद मंत्री पद से हटाए विधायकों पर भी सबकी नजर है। इनमें राणा गुरमीत सोढ़ी, साधु सिंह धर्मसोत, गुरप्रीत कांगड़, बलबीर सिद्धू और शाम सुंदर अरोड़ा शामिल हैं। चर्चा यह भी है कि कांग्रेस के करीब 15 विधायक अमरिंदर के संपर्क में हैं।

भले ही अमरिंदर नई शुरुआत कर रहे हैं, लेकिन उनके करीबी साथ छोड़ रहे हैं। इनमें सबसे बड़ा नाम कैप्टन संदीप संधू का है, जो अमरिंदर के CM रहते उनके सलाहकार रहे। सरकार में उन्हें अमरिंदर का सबसे करीबी और ताकतवर माना जाता था। अमरिंदर को हटाने पर उन्होंने सलाहकार पद छोड़ दिया था।

माना जा रहा था कि कांग्रेस में उन्हें स्वीकार नहीं किया जाएगा, लेकिन अचानक वह डिप्टी CM रंधावा के साथ नजर आ गए। वहीं, केवल ढिल्लो को भी कैप्टन का करीबी माना जाता था, लेकिन वे भी नई सरकार के साथ चल रहे हैं।

कैप्टन अमरिंदर से जुड़ा बड़ा मुद्दा उनकी पाकिस्तानी मित्र अरूसा आलम का है, जिनको लेकर कांग्रेस की सरकार ने ही सियासत शुरू की। हालांकि, कैप्टन ने सबको अरूसा की सोनिया गांधी समेत दिग्गज हस्तियों के साथ फोटो जारी कर जवाब दिया।

दूसरा मामला किसान आंदोलन का है, जिस पर अमरिंदर की नई पार्टी की सियासत घूम रही है। अमरिंदर ने कृषि कानूनों पर फैसले के बाद ही BJP से गठजोड़ की बात कही है। ऐसे में उस पर भी उनकी प्रतिक्रिया अहम रहेगी। पंजाब में सर्वदलीय मीटिंग के जरिए चन्नी सरकार ने BSF के अधिकार बढ़ाने के खिलाफ प्रस्ताव पास कर दिया। इस पर कैप्टन से सवाल होंगे।

कैप्टन अमरिंदर सिंह पहले ही कांग्रेस छोड़ने की बात कह चुके हैं। उन्होंने दिल्ली दौरे के बाद कहा कि वह कांग्रेस छोड़ रहे हैं। अमरिंदर ने यहां तक कहा कि चाहे नवजोत सिद्धू को भी कांग्रेस निकाल दे, लेकिन उनके दरवाजे अब कांग्रेस के लिए बंद हो गए हैं। अमरिंदर ने यह भी कहा कि वे BJP में शामिल नहीं होंगे। वे अपनी अलग फौज बनाएंगे, यानी नई पार्टी बनाकर चुनाव लड़ेंगे। वे भाजपा से गठजोड़ जरूर कर सकते हैं।

कैप्टन अमरिंदर सिंह को कांग्रेस ने पंजाब चुनाव से करीब 6 महीने पहले हटा दिया। तब अमरिंदर ने कहा कि उन्हें अपमानित किया गया। फिर उन्होंने पंजाब कांग्रेस के नए प्रधान बनाए नवजोत सिद्धू और कांग्रेस हाईकमान पर भी निशाना साधा था। इसके बाद अमरिंदर ने दिल्ली जाकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल के साथ मुलाकात की।

error: Content is protected !!