Breaking News
.

प्रवीण जैन ने कहा- खेलसंघों की गुटबाजी से खिलाड़ी कर रहे सफर …

रायपुर (गुणनिधि मिश्रा) । आदिकाल से चला आ रहा है योगी योग को तप व अध्यात्म के रूप में, खिलाड़ी खेल के रूप में, शिक्षक शिक्षा के रूप में तथा चिकित्सक चिकित्सा के रूप में अपनाते आ रहा है। ज्ञात हो कि कोरोना काल में प्रदेश के नागरिकों में रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने मुख्यमंत्री भूपेश बघेलजी ने अपने उद्बोधन में योग को कारगर मानते हुए जीवन में शामिल करने की बात कही गई थी, जिसके बाद खेल कांग्रेस ने प्रदेश स्तर पर योग को बढ़ावा देने योग प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है जिसके बाद से कुछ योग समितियां व संघ द्वारा खुद को योग का मालिक समझ योग के प्रचार प्रसार में अवरोध उत्पन्न कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस स्पोर्ट्स सेल के प्रदेश अध्यक्ष अधिवक्ता प्रवीण जैन ने कहा कि यह हमारे साथ यह पहली बार नही हो रहा, जब हम प्रदेश के खिलाड़ियों को मंच देने बॉडीबिल्डिंग प्रतियोगिया करा रहे थे तब बॉडीबिल्डिंग संघ के एक गुट ने हमारे खिलाफ खिलाड़ियों को भड़काने व प्रतियोगिता में शामिल होने पर बहिष्कार की चेतावनी जारी की गई, इसी तरह CPL क्रिकेट ट्रायल के समय पूरे प्रदेश में खिलाड़ियों को हमारे ट्रायल से दूर रहने की चेतावनी दी गई।

टाईक्वांडो संघ द्वारा किसी खेल कार्यक्रम में शामिल होने पर कई खिलाड़ियों को बैन कर दिया गया था, अन्य बहुत से खेलों में ऐसा ही होता आ रहा है। हमारा मानना है कि यदि कोई संस्था गली-मोहल्ले स्तर पर भी खेल आयोजन कराती है तो उसे भी खेल संघों को बढ़ावा देना चाहिए, ना कि उसे कुचलने का कुत्सित प्रयास करना चाहिए, प्रतियोगिता कोई भी हो खिलाड़ी जितना खेलेगा वह उतना निखरेगा।

छत्तीसगढ़ में संघों की आपसी गुटबाजी, व्यक्तिगत मतभेद, खिलाड़ियों की खींचतान, खुद को श्रेष्ट साबित करने, खिलाड़ियों का मालिक बनने की होड़ के चक्कर में अभी तक खेल और खिलाड़ियों का नुकसान होता आया है, अब यह सब नही चलने दिया जायेगा, एक भी खिलाड़ी के साथ कोई अन्याय नही कर पायेगा। प्रदेश का प्रत्येक खिलाड़ी एकजुट व जागरूक हो गया है, अब इन संघों की मानसिकता को सार्वजनिक किया जायेगा व अन्य सभी तरह की शासकीय व कानूनी कार्यवाही के लिए भी खिलाड़ी बाध्य होंगे।

एक बात सभी को समझने की आवश्यकता है, हर बार सरकार को दोषी ठहराना उचित नही है, मठाधीशों को अपनी गिरेबान में भी झांककर आत्ममंथन करना चाहिए। जिस दिन अपने निजी स्वार्थ को छोड़ कर संघ खिलाड़ियों का साथ देने लगेगा उस दिन प्रदेश का खेल अपने आप सुधर जायेगा और प्रदेश में मैडलों की बारिश हो जायेगी।

error: Content is protected !!