Breaking News
.

मातृ दिवस पर महिलाओं की भूमिका पर हुआ पैनल डिस्कशन …

बिलासपुर। कोरोना काल में अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन द्वारा मातृ दिवस के विशेष दिन पर “आधुनिक समाज में महिला की भूमिका व अवसर” विषय पर “पैनल डिस्कशन” के माद्यम से विमर्ष किया गया। श्रीमती कमला बाजपेयी के मार्गदर्शन में, पैनलिस्ट श्रीमती रीता मंडल, कादम्बिनी यादव, आशा उज्जैनी, सुनीता शर्मा और ऋषिका झा ने अपने विचारों को साझा किया ।

विभिन्न समय काल में समाज में अलग अलग तरह की विषमताएं इंगित की गई है। इस चर्चा में प्राचीन भारतीय समाज की खूबियां और विषमताओं के बदलाव में महिलाओं की क्या भूमिका रही है इस पर गहन चर्चा की गई।इसी प्रकार मध्यकालीन भारत में तथा आधुनिक भारत में महिलाओं की भूमिका पर भी चर्चा की गयी।साथ ही उन चुनौतियों की भी बात की गई, महिलाओं को जिनका रोज अपने जीवन में सामना करना पड़ता है।

समाज में एक शिक्षक होने के नाते महिलाओं को अपनी दक्षताओं को पहचानना और शिक्षा के माध्यम से उन्हें उचित अवसरों का लाभ उठा पाने में सक्षम करा पाना ही हमारा असल दायित्व है, ऐसी चर्चा की गई। इस चर्चा में श्रीमती विद्या डांगे और अजीम प्रेमजी फाउंडेशन से राकेश ने भी अपने विचारों से एक ऐसे समाज की परिकल्पना की जिसमे महिलाओं को बाहर के साथ साथ घरो में भी निर्णय लेने की आजादी दी जा सके, ऐसा माहौल तैयार किया जाना चाहिए, इस पर जोर दिया गया। विद्या ने महिलाओं को आगे बढ़ने के साथ साथ अपनी भारतीय पंरपराओं को भी महिलाओं को निभाने की बात कही।इस चर्चा में लगभग 35 शिक्षक अलग अलग जिलों से जुड़े थे।शिक्षको ने भी खुलकर अपने विचारों को सबके सामने रखा।

error: Content is protected !!