Breaking News
.

भाजपा के पितृपुरुष पंडित बद्रीधर दीवान नहीं रहें …

बिलासपुर। भाजपा के वरिष्ट नेता पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष पृतपुरूष अजेय शत्रु पंडित बद्रीधर दीवान नहीं रहे। तत्कालीन मध्यप्रदेश की राजनीति में जनसंघ समय के नेता अटल बिहारी बाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, कुशाभाऊ ठाकरे, मुरली मनोहर जोशी के साथ काम करने वाले नेता पंडित बद्रीधर दीवान अब हमारे बीच नहीं रहे ।जीवन पर्यंत आम जनता की भलाई के लिये समर्पित बेहद सहज, सरल, विशुद्ध किसान नेता रहें। सिद्धांत की लड़ाई में कभी समझौता नहीं किया अपनी श्रद्धांजलि देते हुये पूर्व विधायक, राष्ट्रीय सचिव सेवादल चन्द्र प्रकाश बाजपेयी ने बतलाया कि मेरे गुरु भाई होने के नाते बेहद आग्रह करने पर ही उन्होंने विधानसभा उपाध्यक्ष बनने की सहमति दी थी ।उन्होंने कहा अब उस क़द के नेता पैदा नहीं हो सकते।

अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुये चन्द्र प्रकाश बाजपेयी ने बतलाया कि वर्ष 1993 के चुनाव में उन्होंने ही दीवान को हराया था 1998 में उन्हें टिकिट मिली नहीं फ़िर लगातार 2003 से 2018 तक तीन बार लगातार वो चुनाव जीतते रहें। पहली बार 1989 में सीपत से पंडित राम गोपाल तिवारी को हारकर दीवान विधायक बने थे। लम्बी राजनीति में कभी भी कोई उनका शत्रु नहीं रहा कोई भी उनके दरवाज़े गया कभी ख़ाली हाँथ नहीं लौटा। बाजपेयी ने बतलाता कि नगर में भगवान परशुराम शोभा यात्रा प्रारम्भ करने वाले पाँच ध्वज वाहक में से वे एक थे।

error: Content is protected !!