Breaking News
.

खैरागढ़ में अब आर्यव्रत सिंह युवराज, राजतिलक का कार्यक्रम संपन्न …

रायपुर। खैरागढ़ राजपरिवार में देवव्रत सिंह के निधन के बाद उनके 15 वर्षीय पुत्र आर्यव्रत सिंह को युवराज के रूप में राजतिलक का कार्यक्रम संपन्न हुआ। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जोगी कांग्रेस की प्रमुख डॉ रेणु जोगी व प्रदेश अमित जोगी भी शामिल हुए।

पूर्व खैरागढ़ रियासत के राजपरिवार का अत्यंत ही गौरवशाली इतिहास रहा है। आज़ादी के बाद इस परिवार ने स्वेच्छा से अपनी सर्वोच्च संपत्ति यहाँ के निवासियों के उत्थान के लिए न्योछावर कर दी। अपने आलीशान महल को देश का प्रथम एवं एकमात्र संगीत एवं कला विश्वविद्यालय की स्थापना करने हेतु सरकार को दान कर दिया और ख़ुद एक गेस्ट हाउस में रहने लगे। ऐसा उदाहरण सम्पूर्ण भारत में शायद ही कोई दूसरा मिले।

इस परंपरा को स्व. मेजर राजा बहादुर सिंह, राजमाता श्रीमती रश्मि देवी सिंह और राजा देवव्रत सिंह ने जीवित रखा। आज खैरागढ़ के इतिहास के सबसे युवा राजा का राजतिलक संपन्न हुआ है। 15 साल के युवराज आर्यव्रत सिंह ने अपने पिता की जवाबदारी सँभाली है। मुझे पूरा विश्वास है कि वे अपने परिवार के इस अद्वितीय और अनुकरणीय जनसेवा के इतिहास की परंपरा को बखूबी आगे बढ़ाएंगे। मेरी शुभकामनाएँ सर्वदा उनके साथ रहेंगी। जय छत्तीसगढ़।

error: Content is protected !!