Breaking News
.

नव निर्वाचित सरपंच प्रियदर्शनी ने कहा- जिला बनने के बाद लोगों की अपेक्षा मरवाही का समुचित विकास जरूरी

मरवाही। छत्तीसगढ़ में राजनीतिक चर्चा या चुनाव हो और मरवाही का नाम न आये ऐसा बहुत कम ही होता है। चाहे वह लोकसभा चुनाव हो या विधान सभा चुनाव हो या ग्राम पंचायत चुनाव ही क्यों न हो। मरवाही प्रायः सभी चुनावों में सुर्खियां जरूर बटोरता है। मरवाही एक बार फिर सुर्खियों में है ग्राम पंचायत चुनाव की वजह से।

मरवाही ग्राम पंचायत में सरपंच का पद इस बार महिला के लिए आरक्षित था। इसलिए इस चुनाव में जहाँ एक ओर मरवाही के 2 बार के सरपंच रहे योगेंद्र नहरेल की धर्मपत्नी प्रियदर्शनी नहरेल मैदान में थीं तो वहीं दूसरी ओर नहरेल परिवार की ही विभा नहरेल व जोगी कांग्रेस की दिग्गज नेत्री बूँदकुंवर मास्को भी मैदान में थी। तीनों प्रत्यशियों ने प्रचार-प्रसार में पूरा जोर लगा दिया और कुछ दिन पहले तक तो किसी की भी जीत की भविष्यवाणी करना नासमझी होती। पर प्रियदर्शनी योगेंद्र नहरेल ने सभी आशंकाओं को दरकिनार करते हुए मरवाही ग्राम पंचायत सरपंच चुनाव में अपने निकटम प्रतिद्वंदी विभा नहरेल को 405 वोटों के विशाल अंतर से पराजित कर दिया।

ज्ञात हो कि प्रियदर्शनी नहरेल योगेंद्र नहरेल जो कि मरवाही के दो बार से सरपंच हैं उनकी पत्नी हैं। इस चुनाव में उन्होंने लगभग एकतरफा जीत हासिल कर अपने सभी विरोधियों के चारों खाने चित्त कर दिये। इस चुनाव में प्रियदर्शनी नहरेल को अपने पति योगेंद्र नहरेल का भरपूर साथ व समर्थन तो मिला ही बल्कि उनकी खुद की काबिलियत का भी उन्हें फायदा मिला। वे खुद पढ़ी-लिखी, सुशील व सभ्य महिला हैं। पति योगेंद्र नहरेल के अलावा उनकी खुद की मरवाही में अच्छी खासी पकड़ है। खासकर महिलाओं के बीच। यही कारण है कि इस चुनाव में उनकी इस छवि व व्यवहार का भी फायदा उन्हें मिला।

इस चुनाव में प्रियदर्शनी योगेंद्र नहरेल 950 वोट पाकर विजयी रहीं तो वहीं विभा नहरेल को 545 वोट ही पा सकीं जबकि जोगी कांग्रेस की नेत्री बूँदकुवर मास्को 494 वोट पाकर तीसरे नम्बर पर रहीं।

दिल्ली बुलेटिन से बातचीत करते हुए मरवाही की नवनियुक्त निर्वाचित सरपंच प्रियदर्शनी नहरेल ने कहा रवाही के विकास को निर्बाध गति से करना उनकी पहली प्राथमिकता होगी। साथ ही उन्होंने मरवाही की पूरी जनता का भी हृदय से आभार व्यक्त किया।

error: Content is protected !!