Breaking News
.

नरेंद्र मोदी सरकार ने लगाई भारत की संपदा की क्लियरेंस सेल, पूरी पीढ़ी हो जाएगी बर्बाद …

नई दिल्ली । भारत की नरेंद्र मोदी सरकार ने हाल ही में नेशनल मोनेटाइजेशन पाइललाइन की घोषणा की है। इसे लेकर मोदी सरकार का कहना है कि इसके तहत ट्रेन, रेलवे स्टेशन, लेकर हवाई अड्डे, और सड़क जैसी बुनियादी ढांचों के क्षेत्र में निजी कंपनियों को शामिल किया जाएगा तथा संसाधन जुटाया जाएगा और संपत्तियों का विकास होगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने साफ किया था कि संपत्ति का स्वामित्व सरकार के पास बना रहेगा और एक निश्चित समय के बाद उनका नियंत्रण लौटाना अनिवार्य होगा। लेकिन अब मोदी सरकार की इस योजना को लेकर कांग्रेस के प्रवक्ता पवन खेड़ा ने गुरुवार को नरेंद्र मोदी सरकार को घेर लिया है। पवन खेड़ा ने कहा कि पिछले 70 सालों में कांग्रेस ने जो कुछ भी बनाया उसे बीजेपी बेच रही है और अगर मोदी सरकार नहीं रुकती है तो पूरी पीढ़ी को इसका अंजाम भुगतना होगा। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ने देश की संपदा की क्लियरेंस सेल का ऐलान किया है।

गुजरात कांग्रेस मुख्यालय में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पवन खेड़ा ने कहा कि सार्वजनिक संरचना को बेचने या लीज पर देने से सिर्फ इस अहम क्षेत्र में मोनोपोली आएगी। जो कांग्रेस सरकार कभी भी नहीं चाहती थी। उन्होंने कहा, ‘अगर अब हम उन्हें नहीं रोकते हैं तो पूरी पीढ़ी नष्ट हो जाएगी। साल 2014 में सत्ता में आने से पहले बीजेपी कहा करती थी कि कांग्रेस ने बीते 70 सालों में क्या किया। जिसका जवाब है, वो संपदाएं जिसे अब आप बेच रहे हैं। हमने उन 70 सालों में भारत का निर्माण किया। बीजेपी अब भारत को बेचने में व्यस्त है।’

पवन खेड़ा ने कहा कि पिछली कांग्रेस सरकार और मौजूदा बीजेपी सरकार में अंतर है। एक संवेदनशील सरकार हमेशा इस बात का ध्यान रखती है कि उसके रणनीतिक क्षेत्र उसके हाथ से ना निकले। कोई भी संवेदनशील सरकार मोनोपोली को बढ़ावा नहीं देती। लेकिन बीजेपी सरकार के लिए देश जरुरी नहीं है। वो सिर्फ वोट के बारे में सोचते हैं और बीजेपी को और ज्यादा धनवान बनाने के बारे में सोचते हैं।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 6 लाख करोड़ रुपए की नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन (एनएमपी) की घोषणा की थी। उन्होंने बताया था कि इसके लिए करीब 25 हवाई अड्डे, 40 रेलवे स्टेशनों, 15 रेलवे स्टेडियम और कई रेलवे कॉलोनी की पहचान की गई है।  इन्हें निजी क्षेत्र के निवेश से विकसित किया जायेगा। अब कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस नेता बताया कि उनकी पार्टी के नेता पूरे देश का दौरा करेंगे और लोगों को इस मोनेटाइजेशन प्लान से होने वाले नुकसान के बारे में बताएंगे।

उन्होंने कहा, ‘सरकार ने देश की संपदा का एक क्लियरेंस सेल का ऐलान किया है और अब वो दावा कर रहे हैं कि वो इसे लीज पर दे रहे हैं। जो लोग इसे खरीदेंगे वो बैंक से लोन लेंगे। इसका मतलब यह हुआ कि हमारी संपदा हमारे ही पैसे से खरीदी जाएगी और इसे पूरी तरह से बर्बाद करने के बाद हमें सौंप दी जाएगी।’

कांग्रेस नेता ने लोगों तथा मीडिया से अपील की है  कि वो अपनी आवाज बुलंद करें और देश की संपदा को बिकने से बचाएं। बिना किसी का नाम लिए कांग्रेस नेता ने कहा कि इस योजना के तहत सिर्फ कुछ चुनिंदा उद्योगपतियों की जेब भरी जाएगी, जो कि बीजेपी के क्रोनी कैपिटलिज्म का उदाहरण है।

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि 60 लाख करोड़ की संपदा कुछ चुनिंदा लोगों को महज 6 लाख करोड़ में दी जा रही है। अब समय आ गया है कि उनसे जवाब मांगा जाए। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने तेल के दाम बढ़ाकर 23 लाख करोड़ की कमाई की है और इस पैसे का इस्तेमाल देश के लोगों की भलाई के लिए नहीं किया गया।

error: Content is protected !!