Breaking News
.

राजनीति विरासत बेटे अब्बास को सौंप मुख्तार अंसारी ने संन्यास लेने का किया ऐलान, बाले- अब नहीं लड़ेंगे चुनाव ….

लखनऊ।  मऊ से विधायक बाहुबली मुख्तार अंसारी इस बार चुनाव नहीं लड़ेंगे। करीब तीन दशक बाद पहला मौका होगा जब अंसारी चुनाव मैदान में नहीं होंगे। मुख्तार अंसारी ने अपनी सीट बेटे अब्बास अंसारी को सौंप दी है। सोमवार को अब्बास ने नामांकन भी दाखिल कर दिया। सपा गठबंधन में शामिल सुभासपा ने अब्बास अंसारी को टिकट भी दे दिया है। सदर सीट से विधायक मुख्तार अंसारी लगातार पांच जीत दर्ज कर चुके हैं।

पिछले हफ्ते मुख्‍तार अंसारी के नामांकन के लिए अदालत से इजाजत भी मांगी गई थी। अदालत ने उनके वकील और अन्य लोगों को जेल में जाकर नामांकन प्रक्रिया पूरी करने की इजाजत भी दे दी थी। नामांकन प्रक्रिया शुरू होने के पहले दिन उनके अधिवक्ता दारोगा सिंह ने कोर्ट से सारी प्रक्रियाएं पूरी करवाई थी। जेल में मुलाकात के लिए सभी 22 लोगों की आरटीपीसीआर जांच भी हुई थी।

मुख्तार अंसारी के लिए सुभासपा के नाम पर नामांकन पत्र लिया गया था। इस बीच सुभासपा प्रमुख ओमप्रकाश राजभर ने भी यह कहकर माहौल को गरमा दिया था कि मऊ सदर से मुख्तार या अब्बास दोनों में से कोई भी लड़ सकता है।

अंततः सोमवार को यह तय हो गया कि मुख्तार अंसारी चुनाव नहीं लड़ेंगे। मुख्तार के अधिवक्‍ता दारोगा सिंह ने लाइव हिन्दुस्तान से बातचीत में कहा कि उन्होंने अपनी विरासत बेटे अब्‍बास अंसारी को सौंप दी है। अब्बास ने सोमवार को अपना नामांकन भी दाखिल कर दिया। दारोगा सिंह ने कहा कि मुख्तार अंसारी ने अपनी विरासत अब्बास अंसारी को सौंप दी है। अब अब्बास की चुनावी राजनीति में रहेंगे।

पिछले विधानसभा चुनाव में मुख्तार अंसारी ने मऊ सदर और बेटे अब्बास ने घोसी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा। बिहार के राज्यपाल फागू चौहान की परंपरागत सीट पर पहली बार मुख्तार घराने ने मजबूत दस्तक दी थी। तब बसपा के प्रत्याशी अब्बास अंसारी 81,295 मत पाकर दूसरे स्थान पर रहे। वहीं इस चुनाव में भाजपा के प्रत्याशी फागू चौहान को 88,298 वोट पाकर जीत हासिल किए थे। इस बार घोसी विधानसभा सीट पर भाजपा से सपा में आए मंत्री दारासिंह चुनाव लड़ रहे हैं।

error: Content is protected !!