Breaking News
.

एमपी: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय सिंह को लेकर अटकलों का बाजार गर्म, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बयान ने बढ़ाया सस्पेंस …

भोपाल. कांग्रेस पार्टी में हाशिए पर चल रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह क्या पार्टी छोड़ेंगे? इस बात की अटकलें तेजी के साथ लगाई जा रही हैं. दरअसल, दो दिन पहले अजय सिंह ने गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से उनके निवास पर मुलाकात की थी. दोनों नेताओं के बीच बंद कमरे करीब आधा घंटा चर्चा हुई थी. इस मुलाकात के बाद अजय सिंह ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी लेकिन गृह मंत्री नरोत्तम के बयान के कई तरह के सियासी मायने निकाले जा रहे हैं.

मिश्रा ने कहा है कि अजय सिंह से उनकी मुलाकात सामान्य थी. मित्रता के नाते उनकी मुलाकात होती रहती है लेकिन उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी अजय सिंह के राजनीतिक पृष्ठभूमि और उनके राजनीतिक विरासत का इस्तेमाल नहीं कर पा रही है. गृह मंत्री के इस बयान को लेकर अब बीजेपी और कांग्रेस के अंदर कयासों का दौर तेज हो गया है. दरअसल, प्रदेश में तीन विधानसभा और एक लोकसभा सीट पर उपचुनाव होना है जिसमें सतना रैगांव विधानसभा की सीट भी शामिल है. रैगांव सीट पर कांग्रेस नेता अजय सिंह का भी खासा प्रभाव है और ऐसे में उपचुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से अजय सिंह की बंद कमरे में मुलाकात के कई तरह के मायने निकाले जा रहे हैं.

कांग्रेस पार्टी के अंदर कमलनाथ के साथ अजय सिंह के मतभेद विंध्य में उनके प्रभाव को लेकर भी सामने आए थे, जब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने विंध्य क्षेत्र के प्रभारी अजय सिंह राहुल के धुर विरोधी रहे चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी को बना दिया था. हालांकि अजय सिंह की नाराजगी के बाद चौधरी राकेश सिंह को मुरैना का प्रभारी बना दिया गया लेकिन अभी भी इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि दोनों नेताओं के बीच सब कुछ ठीक नहीं है. ऐसे में अजय सिंह की गृहमंत्री से मुलाकात, क्या उनकी बीजेपी में बढ़ती करीबियों का असर है.

हालांकि, कांग्रेस ने साफ कहा है कि 2023 के चुनाव में अजय सिंह कांग्रेस पार्टी में अहम भूमिका निभाएंगे. कांग्रेस प्रवक्ता अजय सिंह यादव ने कहा है कि अजय सिंह पक्के कांग्रेसी है और पार्टी छोड़कर जाने का कोई सवाल नहीं है. 23 सितंबर को अजय सिंह का जन्मदिन है. प्रदेश कांग्रेस दफ्तर के बाहर अजय सिंह के जन्मदिन बधाई वाले बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगाए गए हैं. अजय सिंह पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह के बेटे हैं लेकिन पहले विधानसभा और उसके बाद लोकसभा का चुनाव अजय सिंह हार चुके हैं. यही कारण है कि विंध्य क्षेत्र में अब सीधे कमलनाथ ने अपना दखल बढ़ाया है. ऐसे में अजय सिंह के गृहमंत्री से मुलाकात करने से कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. अपने जन्मदिन पर अजय सिंह मीडिया से रूबरू होंगे और उनकी मुलाकात और कांग्रेस में भविष्य को लेकर स्थिति साफ कर सकते हैं.

error: Content is protected !!