Breaking News
.

एमपी : स्क्रूटनी में एक निर्दलीय का नामांकन रद्द, सभी आपत्तियां खारिज, कांग्रेस बोली – बगैर प्रस्तावक बने वीडी-शिवराज भरवा गए नामांकन; बीजेपी ने कहा-आपराधिक मामलों की संख्या नहीं बताई …

खंडवा। लोकसभा उपचुनाव के मद्देनजर सोमवार को अभ्यर्थियों के नामांकन पत्रों की स्क्रूटनी की गई। स्क्रूटनी के दौरान एक निर्दलीय का नामांकन खारिज हुआ तो कांग्रेस- भाजपा ने एक-दूसरे के नामांकन में त्रुटियां बताई। कांग्रेस ने दलील में कहा कि बगैर प्रस्तावक बने वीडी शर्मा और शिवराजसिंह ने कैसे अभ्यर्थी का नामांकन भरवा दिया। जबकि प्रस्तावक मौजूद ही नहीं थे। इधर, भाजपा ने कांग्रेस कैंडिडेट के नामांकन में त्रुटियां बताई। यहां पर 17 अभ्यर्थियों ने कुल 20 नामांकन फॉर्म भरे थे। एक निर्दलीय प्रत्याशी का खारिज होने के बाद अब 17 बचे हुए हैं। रिटर्निंग ऑफिसर ने सभी आपत्तियां खारिज कर दी।

निर्वाचन आयोग की ओर से स्क्रूटनी का समय सुबह 11 बजे निर्धारित था, लेकिन कलेक्टर एवं रिटर्निंग ऑफिसर अनय द्विवेदी आधे घंटे लेट 11.30 बजे आए। कांग्रेस का आरोप है कि रिटर्निंग ऑफिसर ने भाजपा कैंडिडेट के लोगों को समय दिया और खुद भी लेट आए। जबकि ऐसा कभी नही हुआ कि रिटर्निंग ऑफिसर लेट पहुंचा हो। रिटर्निंग ऑफिसर की शिकायत निर्वाचन आयोग को करने की बात कहीं।

अधिवक्ताओं ने एक-दूसरे के कैंडिडेट्स के नामांकन व शपथ पत्रों में गलतियां बताईं। कांग्रेस ने भाजपा कैंडिडेट ज्ञानेश्वर पाटिल के नामांकन में प्रस्तावकों पर आपत्ति लेने के साथ बताया कि पाटिल ने अपने नामांकन में दूसरे भाग को निरंक छोड़ दिया। शपथ पत्र में बताया नहीं कि, वह उम्मीदवारी के लिए अर्हरित है या निर्हरित। इसी तरह भाजपा ने कांग्रेस कैंडिटेड राजनारायणसिंह के नामांकन में त्रुटि निकाली कि उन्होंने आपराधिक मामलों की टोटल संख्या नहीं बताई। रिटर्निंग ऑफिसर ने सभी आपत्तियां खारिज कर दी।

निर्दलीय मोहन गौड़ का नामांकन रद्द- रिटर्निंग ऑफिसर ने निर्दलीय अभ्यर्थी मोहन गौड़ का नामांकन रद्द कर दिया। नामांकन-पत्र में अभ्यर्थी द्वारा प्रस्तावक के बारे में जानकारी नहीं दी गई थी। बताया जाता है कि, मोहन गौड़ किसी आदिवासी संगठन के नेता है। नामांकन रद्द होते ही भाजपा के किसी MLA ने खुशी जाहिर की।

error: Content is protected !!