Breaking News
.

उत्तर प्रदेश का मानसून बिहार में जा रूका, बारिश के लिए अभी करना होगा और इंतजार, जानें कब से बारिश के आसार …

लखनऊ। उत्तर प्रदेश का मानसून बिहार में ठिठक जाने से प्रदेश के लोगों को अभी भी गर्मी से पूरी तरह से राहत नहीं मिल पाई है। जिस गति से मानसून उत्तर प्रदेश की तरफ से बढ़ रहा था वह कम हो गई है। मानसून दो दिन पहले बिहार में दाखिल हो कर ठिठक गया है। ऐसे में उत्तर प्रदेश को अभी सप्ताह भर मानसून फुहारों के लिए इंतजार करना पड़ सकता है। उधर, बदले मौसम से राज्य को गर्मी से मामूली राहत मिली है।

पूर्वी उत्तर प्रदेश के ऊपर तैयार निम्न हवा के दबाव का क्षेत्र और अफगानिस्तान एवं पाकिस्तान से जम्मू एवं कश्मीर की तरफ बढ़े पश्चिमी विक्षोभ ने मौसम में बदलाव किया है। इससे मेरठ समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बरसात हुई है। ऐसे ही पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में दो-तीन चरण में बरसात हुई है। लखनऊ, कानपुर, मुरादाबाद, आगरा, अलीगढ़ में बौछारें पड़ीं।

मौसम विभाग लखनऊ के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि मानसून बिहार में पहुंचकर ठिठक गया है। वह जितनी तेजी से चला था वह गति बरकरार नहीं रह पाई। उत्तर में 18 जून को मानसून के आगमन का पूर्वानुमान लगाया गया था। पर जो स्थितियां उसे देखते हुए अभी मानसून के लिए सप्ताह भर इंतजार करना पड़ सकता है। वैसे मौसम अगले दो-तीन दिन तक ऐसा ही बना रहेगा। बदली और बौछारें पड़ने की संभावना है।

उधर, पूरे राज्य में तापमान में तीन से चार डिग्री सेल्सियस की गिरावट हुई है। लखनऊ मौसम विभाग को जिन 33 जिलों की रिपोर्ट मिली है उनमें सिर्फ बलिया, लखनऊ, इटावा, कानपुर एयरफोर्स और लखीमपुर में ही अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के ऊपर रहा। बाकी सभी जगह तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के रिकार्ड किया गया।

बदले मौसम ने गर्मी से मामूली राहत के साथ पूरे राज्य की हवा सुधार दी है। बरेली को छोड़ दें तो राज्य में कहीं का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 100 से अधिक नहीं रहा। बाकी सभी जगह की हवा अच्छी और संतोषजनक रही। सबसे शुद्ध हवा आगरा की रही। वहां एक्यूआई 41 रिकार्ड किया गया।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की शुक्रवार को शाम पांच बजे जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में सबसे प्रदूषित शहर माने जाने वाले गाजियाबाद की हवा भी सुधरी रही। खुर्जा, फिरोजाबाद, कानपुर, मेरठ की हवा भी निरंतर दमघोंटू बनी रहती है। यहां की भी हवा साफ रही।  बरेली ही ऐसा जिला रहा जहां की हवा मध्यम श्रेणी में रही।

यहां का एक्यूआई 118 दर्ज किया गया। लखनऊ जहां का एक्यूआई 200 के आसपास रहता है वहां शुक्रवार को 80 रहा। सबसे अच्छी यानी डार्क ग्रीन जोन में आगरा, गोरखपुर, खुर्जा और प्रयाग रहे। आगरा में एक्यूआई 41, गोरखपुर में 46, खुर्जा में 48  और प्रयागराज में 50 दर्ज किया।

error: Content is protected !!