Breaking News

मोदी सरकार का रसोई को झटका : गैस की कीमत अब 9 सौ रुपए पार, कांग्रेस नेता विनोद तिवारी ने फिर किया अपने अंदाज में आंदोलन ….

रायपुर। देश में पिछले एक माह के दौरान पेट्रोल की क़ीमतों में 20 बार वृद्धि की गई, पेट्रोल की क़ीमत 100 रुपए के पार होने रसोई गैस की क़ीमत लगभग 906 खाद्य तेल की क़ीमत 180 रु लीटर पार का रिकार्ड मोदी की सरकार ने अपने नाम पर स्थापित कर लिया है। पेट्रोलियम पदार्थ में लगातार वृद्धि होने से लोगों का बजट पूरी तरह से लड़खड़ा गया है लोगों का जीवन और कठिन हो गया है।

कांग्रेस नेता विनोद तिवारी ने पेट्रोल की क़ीमत 100 रुपए रुपया पार करने के विरोध में पिछले 1 माह से अनोखा प्रदर्शन किया जा रहा है। हू बहु 6 फ़िट के पेट्रोल पम्प की डमी तैयार किये गये उस पर मोदी आयल लिखा हुआ है साथ ये भी लिखा है की देश में पेट्रोल 100 रुपए के पार ये है मोदी का अत्याचार, इसी तरह मोदी गैस के नाम से होर्डिंग भी बनाये गये है, लगातार धरना प्रदर्शन साइकिल रैली आदि किया जा रहा है।

विनोद तिवारी ने कहा की मोदी सरकार के राज में सरकारी तेल कम्पनियों ने 1 जुलाई से एलपीजी सिलेंडरों के दाम में 25 रुपया बढ़ोतरी की है। जिस वजह से छत्तीसगढ़ में अब रसोई गैस की क़ीमत 906 रुपया हो गई है। जबकि 2014 में रसोई गैस की क़ीमत 410 रुपया थी, मोदी सरकार द्वारा की गई मूल्य वृद्धि का हम विरोध करते है। विरोध स्वरूप आज नगर घड़ी चौक के सामने विनोद तिवारी व साथियों ने नारेबाज़ी करते हुए एलपीजी गैस के मूल्य वृद्धि का ज़ोरदार तरीक़े से विरोध दर्ज किया। गैस के सिलेंडर सहित होर्डिंग लिये कार्यकर्ता खड़े रहे खड़े कार्यकर्ताओं ने मोदी स्मृति ईरानी, रमन सिंह और धर्मेंद्र प्रधान के मौखौटे पहन रखे थे। मोदी गैस का भी होर्डिंग हाँथों में लेकर खड़े हो मोदी सरकार के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी करते हुए अपना विरोध दर्ज किया। विनोद तिवारी ने कहा की ये मोदी सरकार का आपातकाल है। आम जनता के जेब में डाका डाल रही है आगे ये भी कहा की पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्य वृद्धि और महँगाई के विरोध में प्रदर्शन आगे भी जारी रहेगा।

विनोद तिवारी ने ये भी कहा की ये वही लोग है जब यूपीए की सरकार थी तब पेट्रोल डीज़ल गैस की क़ीमत में थोड़ी से वृद्धि हुई थी तब ये लोग हमारी पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी का पोस्टर महंगाई डायन बना कर जारी किया था। स्मृति ईरानी से लेकर सभी लोग सड़क पर तमाश कर रहे थे चूड़ियाँ फ़ेक रहे थे। गैस सिलेंडर ले कर सड़क पर नाच रहे थे । वो आज कहां है क्यू चुप है जबकि आज तो उनकी ही सरकार है और  गैस की क़ीमत 906 हो गई है। पेट्रोल 100 के पार है कहा छुप कर बैठे है वो प्रदर्शनकारी शर्म आना चाहिये।

आम जनता के जेब में डाका डालते समय मोदी की सरकार ने 1 साल में पेट्रोल डीज़ल के माध्यम से लिये जाने वाले टेक्स से 2 लाख 50 हज़ार करोड़ का मुनाफ़ा कमाया है। इन्हें शर्म आनी चाहिये कोरोना काल में जब सरकार को लोगों की सहायता करनी चाहिये तब ये पेट्रोल की मूल्य वृद्धि कर आम लोगों के जेब में डाका डाल उनका जीवन और कठिन कर रहे हैं जबकि विश्व मार्केट में तेल की क़ीमत काफ़ी कम है फिर ये मूल्य वृद्धि क्यूं।

बात सिर्फ़ पेट्रोल डीज़ल की नहीं है। आज गैस की क़ीमत को देख लो आसमान छू रही है। 906 रुपया वहीं सरसों का तेल 70 से 180 पहुँच गया है। इसी तरह अन्य वस्तुएँ भी महँगी हुई है। जिससे लोगों के घर का बजट बिगड़ गया है। गृहणीयां घर कैसे चला रही है। ये उनका दिल ही जनता है। इस मोदी सरकार ने आम आदमी के जीवन में कितनी तकलीफ़ भर दिया है ये दर्द वही समझ सकते है। ये मोदी सरकार तो ग्राहकों से मुनाफ़ा कमाने वाली सरकार बन गई है ।

आज के विरोध प्रदर्शन में प्रमुख रूप से रूबल मेहता, उमेश डोंगरे, निर्मल मेश्राम, नारायण कुमार, राजा रावत, संजय तिवारी, लक्ष्य साठे, अपराजित तिवारी, श्याम झा, अभिनव पाठक, सागर, संजू साहू, जगबंधु भारती, आकाश राव आदि सम्मिलित हुए।

error: Content is protected !!