Breaking News
.

मंत्री TS सिंहदेव बोले- भाजपा व मोदी सरकार के इशारों पर काम कर रही ED …

रायपुर। नेशनल हेराल्ड मामले में ईडी द्वारा राहुल गांधी को तीसरे दिन फिर पूछताछ के लिए बुलाया गया है। इसके विरोध में देश की राजधानी दिल्ली में कांग्रेस का प्रदर्शन लगातार जारी है। छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने इस मामले पर मोदी सरकार व भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि उनकी नीयत अगर परेशान करने की है तो और परेशान करेंगे। कोई तथ्य अगर होते तो 3 दिन क्यों लगते। आप कह रहे हैं, आपको जानकारी है। आपको सब मालूम है तो फिर इतनी देर किस बात की लग रही। 2 सवाल पूछिए और बात खत्म…। लेकिन आपकी नीयत तंग करने की है।

सिंहदेव ने कहा कि केंद्र सरकार की मंशा परेशान करने की है। एक दिन, दो दिन और आज तीन दिन पूछताछ के लिए बुला रहे हैं। इसके बाद आप कोई भी कदम उस तरह से उठा सकते हो। ईडी को नियंत्रित करने वाली भाजपा की एक यह कोशिश है। वे राहुल गांधी से डरते हैं। वे राष्ट्र के लिए आवाज उठाते हैं। लोगों की सबसे मजबूत आवाज बनते हैं, इसलिए उन्हें दबाने का षड़यंत्र रचा जा रहा है। सिंहदेव ने कहा कि अन अकाउंटेड फॉर मनी को किसी माध्यम से अकाउंट में ला रहे हो तो वह मनी लांड्रिंग हो गई। किसी हिडन सोर्स से आप पैसा किसी कंपनी में ला रहे हो तो वह मनी लॉड्रिंग होगी। कांग्रेस पार्टी का पैसा लोन में दिया हुआ है। पारदर्शी तरीके से 90 करोड़ की बात हो रही है। इसमें लॉड्रिंग कहां हुई।

टीएस सिंहदेव ने कहा कि 1937 में बनी एक कंपनी जो कि राष्ट्रवाद की बातों को उठाकर आजादी के संघर्ष में आवाज बुलंद करती रही। जिसे फंड देने की आवश्यकता महसूस हुई। उस कंपनी में लोगों को तनख्वाह नहीं मिल रही। बिजली बिल नहीं पटा पा रहे हैं, बाकी उनके उधार अधिक हो गए। वैसी एक ऐतिहासिक संस्था को पार्टी ने फंड देकर सपोर्ट किया, इसमें मनी लॉड्रिंग की बात कहां हुई। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को जबरन परेशान किया जा रहा है। आज देश के सामने भविष्य के लिए एक विकल्प के रूप में राहुल गांधी हैं। एक आवाज राहुल गांधी हैं, जिन्होंने हर गलत कदम को मजबूती से देश के सामने रखा। चाहे बेरोजगारी की बात हो…वैश्विक महामारी कोरोनो या फिर देश की सीमाओं की बात हो।

सिंहदेव ने कहा कि आज अमेरिका के जनरल आकर कह रहे हैं ब्रिज बनी है तो बात हो रही है। उसकी प्रमाणिकता हो गई। राहुल गांधी ने 2 साल पहले इस बात को कहा था तो राष्ट्रवाद के दायरे में उनके बयान को तौला जा रहा था। उन्होंने कहा कि भाजपा देश की सुरक्षा के मुद्दे पर पार्लियामेंट में क्यों बात नहीं कर सकते। यह तथ्य संसद में क्यों नहीं रख सकते। सच्चाई से मोदी सरकार भाग रही है। एक विदेश के जनरल को बोलना पड़ेगा। ऐसी स्थितियों को उजागर करने का हौसला कौन रख रहा है राहुल गांधी, इसलिए उनकी आवाज को केंद्र सरकार द्वारा दबाने का प्रयास किया जा रहा है।

error: Content is protected !!