Breaking News
.

ममता का जलवा कायम है, कोलकाता निकाय चुनाव में 134 सीटें जीती TMC; नरेंद्र मोदी का जादू हुआ कम, भाजपा 3 पर सिमटी…

कोलकाता। कोलकाता निकाय चुनाव में भाजपा बढ़ने की बजाय और सिमट गई है। लोगों का कहना है कि शिक्षा, स्वास्थ्य व बेरोजगारी के मुद़दे पर नरेंद्र मोदी सरकार फेल है। वह केवल मंदिर और हिन्दुत्व के मुद्दे पर काम कर रहे है। 5 साल पहले भाजपा ने यहां 5 सीटों पर जीत हासिल की थी, लेकिन इस बार दो और गंवा दीं। इस बीच वॉर्ड नंबर 135 से जीत हासिल करने वालीं रूबीना नाज ने भी टीएमसी से जुड़ने का फैसला लिया है। उनके पति भी तृणमूल कांग्रेस के नेता हैं। इसके अलावा दो अन्य निर्दलीय विजेता पुरबासा नास्कर और आएशा कनीज ने भी तृणमूल के साथ जाने का फैसला लिया है। तृणमूल के नेता रहे इरफान अली ताज की पत्नी कनीज ने कहा, ‘यदि हम सत्ताधारी दल के साथ रहेंगे तो फिर अपने इलाके के लोगों के लिए और ज्यादा काम कर सकेंगे।’

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी का जलवा अब भी कायम है। कोलकाता नगर निगम की 144 सीटों पर हुए चुनाव के नतीजे यही कहते हैं। नगर निकाय में क्लीन स्वीप करते हुए तृणमूल कांग्रेस ने 134 सीटों पर कब्जा जमाया है। यही नहीं तीन वॉर्डों में जीत हासिल करने वाले निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी टीएमसी से जुड़ने की इच्छा जताई है। इस तरह कोलकाता निकाय चुनाव की 137 सीटों पर तृणमूल कांग्रेस का परचम लहराने वाला है। ये नतीजे भाजपा के लिए बड़ा झटका है, जिसे महज तीन सीटों पर ही जीत मिल सकी है। इसके अलावा कांग्रेस और सीपीएम का हाल तो निर्दलीय उम्मीदवारों से भी बुरा रहा है। दोनों दलों को 2-2 सीटों पर ही जीत मिल सकी है।

इस बीच कयास लगाए जा रहे हैं कि परिवहन मंत्री और कोलकाता के पूर्व मेयर फिरहाद हाकिम एक बार फिर से शहर का नेतृत्व कर सकते हैं। हालांकि ममता बनर्जी की ओर से उन्हें मेयर बनाए जाने को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की गई है। वॉर्ड नंबर 82 से लगातार चौथी बार फिरहाद हाकिम ने जीत हासिल की है। कोलकाता निकाय चुनाव के नतीजों के तुरंत बाद ममता बनर्जी त्रिपुरा रवाना हो गईं। इससे पहले उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी की 23 दिसंबर को दोपहर 2 बजे कोलकाता में मीटिंग होगी। इसमें हम शहर के नए मेयर का फैसला लेंगे।

गोवा और यूपी के विधानसभा चुनावों में भी एंट्री की तैयारियों में जुटीं ममता बनर्जी ने इन नतीजों को विपक्ष के लिए सबक बताया है। ममता बनर्जी ने कहा, ‘कोलकाता के लोगों ने भाजपा और लेफ्ट को धोकर रख दिया है। इन दो लूजर्स के बीच कांग्रेस भी दबकर रह गई है। यह राष्ट्रीय राजनीति में भी दिख रहा है। मेरा पूरा विश्वास है कि बंगाल और कोलकाता के लोग पूरे देश को रास्ता दिखाएंगे।’

वोट शेयर पर नजर डालें तो टीएमसी की जोरदार सफलता का पता चलता है। निकाय चुनाव में टीएमसी को अकेले 92.36% वोट मिले हैं। वहीं भाजपा को 2 फीसदी और कांग्रेस एवं लेफ्ट को 1.39 फीसदी वोटों से ही संतोष करना पड़ा है। भाजपा को वॉर्ड नंबर 22, 23 और 50 में ही जीत मिली है। इसके अलावा कांग्रेस को वॉर्ड 45 और 137 में विजय हासिल हुई है। लेफ्ट पार्टियों को 92 और 103 नंबर वॉर्ड में विजय प्राप्त हुई है।

error: Content is protected !!