Breaking News
.

इस कथा का पाठ करने से रहती हैं मां दुर्गा हमेशा मेहरबान…

हिंदू धर्म में मासिक दुर्गाष्टमी का बहुत अधिक महत्व होता है। हर माह में एक बार शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि पर मां दुर्गा अष्टमी मनाई जाती है। इस दिन विधि- विधान से मां दुर्गा की पूजा- अर्चना की जाती है। आज मार्गाशीर्ष माह की मासिक दुर्गाष्टमी है। मासिक दुर्गाष्टमी पर व्रत कथा का पाठ अवश्य करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार व्रत कथा का पाठ करने से मां दुर्गा प्रसन्न होती हैं और मनवांछित फल प्रदान करती हैं। आगे पढ़ें व्रत कथा और जानें मां दुर्गा किन लोगों पर हमेशा मेहरबान रहती हैं…

शास्त्रों के अनुसार, सदियों पहले पृथ्वी पर असुर बहुत शक्तिशाली हो गए थे और वे स्वर्ग पर चढ़ाई करने लगे। उन्होंने कई देवताओं को मार डाला और स्वर्ग में तबाही मचा दी। इन सबमें सबसे शक्तिशाली असुर महिषासुर था। भगवान शिव, भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा ने शक्ति स्वरूप देवी दुर्गा को बनाया। हर देवता ने देवी दुर्गा को विशेष हथियार प्रदान किया। इसके बाद आदिशक्ति दुर्गा ने पृथ्वी पर आकर असुरों का वध किया। मां दुर्गा ने महिषासुर की सेना के साथ युद्ध किया और अंत में उसे मार दिया। उस दिन से दुर्गा अष्टमी का पर्व प्रारम्भ हुआ।

कन्याओं को देवी का अवतार माना जाता है इसलिए कभी भी उनका दिल नहीं दुखाना चाहिए। जो व्यक्ति कन्याओं का सदा सम्मान करता है, उस व्यक्ति पर मां दुर्गा विशेष कृपा करती हैं। जो व्यक्ति महिलाओं के विरुद्ध कभी भी बुरा आचरण नहीं करता है उस पर मां दुर्गा विशेष कृपा करती हैं। किसी विशेष माह या त्योहार पर ही नहीं बल्कि हमेशा लड़कियों का सम्मान करना चाहिए और उनपर बुरी नजर नहीं डालनी चाहिए।

error: Content is protected !!