Breaking News
.

छत्तीसगढ़ पहुंचा ‘लाउडस्पीकर’ विवाद, हिन्दूवादी संगठनों ने साफ कहा- मस्जिदों से हटाया जाए …

रायपुर। हिन्दू स्वाभिमान संगठन की प्रदेश अध्यक्ष विश्वदिनी पांडेय ने कहा कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर से अजान को बंद किया जाए। बिना लाउडस्पीकर 5 बार क्या 50 बार अजान कीजिए… हमें कोई आपत्ति नहीं है। उन्होंने बताया कि अजान के शब्द होते हैं कि अल्लाह सबसे महान है। उल्लाह के अतिरिक्त दूसरा कोई इबादत के योग्य नहीं है। सनातनियों की पूजा का अपमान कर रहे हैं। अराध्य का अपमान कर रहे हैं। कलेक्टर को अल्टीमेटम दिए हैं। 15 दिनों में लाउडस्पीकर नहीं हटाने पर चौक-चौराहों में हनुमान चालीसा लाउडस्पीकर लगाकर पढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि रायपुर के जय स्तंभ से लाउड स्पीकर में डीजे के साथ हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे।

हिंदू स्वाभिमान संगठन, नीलकंठ सेवा संस्थान और अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू महासभा के पदाधिकारी कलेक्टर से मिले। हिन्दू संगठनों ने मस्जिदों से लाउड स्पीकर हटाने ज्ञापन सौंपा है। संगठनों की तरफ से कहा गया है कि साउंड सिस्टम इस्तेमाल करने का नियम सुप्रीम कोर्ट ने तय कर रखा है। फिर यह नियम मस्जिदों पर प्रशासन क्यों लागू नहीं करवा पा रहा है। हिन्दूवादी संगठनों ने प्रशासन को अल्टीमेटम दिया है कि मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाया जाए, नहीं तो चौक-चौराहों में हनुमान चालीसा का पाठ किया जाएगा। शिवसेना भी उत्तर प्रदेश की तरह छत्तीसगढ़ के धार्मिक स्थलों पर लाउड स्पीकर की आवाज कम करने प्रशासन को अल्टीमेटम दे चुका है।

कलेक्टोरेट पहुंचे नीलकंठ सेवा संस्थान, छत्तीसगढ़ के संयोजक नीलकंठ त्रिपाठी ने कहा कि कलेक्टर को ज्ञापन दिए हैं। मस्जिदों में लगातार अजान से ध्वनि प्रदूषण हो रहा है। उस पर प्रतिबंध लगाया जाए। जिस प्रकार उत्तर प्रदेश से लाउडस्पीकर को उतारा जा रहा है, उसी तरह छत्तीसगढ़ से भी उतारा जाए। लाउडस्पीकर से अल्लाह एक है। उनके अलावा कोई नहीं है। ऐसा प्रचारित किया जा रहा है। क्या सनातन धर्म में हिन्दू देवी-देवताओं का कोई महत्व नहीं है। लाउडस्पीकर से स्कूलों और कॉलेजों की पढ़ाई में दिक्कत होती है। अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय सचिव स्वामी राजेश्वरानंद ने कहा कि मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाए जाएं या फिर सभी मंदिरों में लाउडस्पीकर लगाने की अनुमति दी जाए।

दरअसल, विवाद की शुरुआत महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे के बयान के बाद हुई थी। राज ठाकरे ने महाराष्ट्र की शिवसेना सरकार को चेतावनी दी थी। राज ठाकरे ने कहा था कि मनसे कार्यकर्ता मस्जिदों के बाहर स्पीकर लगाएंगे और हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। इसके बाद कई जगहों पर विवाद की खबरें आई थीं। लाउडस्पीकर का विवाद इसके बाद कई राज्यों तक पहुंच गया। महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर विवाद के बाद सरकार ने बड़ा फैसला लिया। नए आदेश के मुताबिक महाराष्ट्र में अब धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर लगाने से पहले राज्य सरकार से अनुमति लेना अनिवार्य कर दिया है।

महाराष्ट्र के गृह मंत्रालय ने एक आदेश में कहा है कि किसी भी धार्मिक स्थल पर लाउडस्पीकर के इस्तेमाल के लिए अब प्रशासन से इजाजत लेनी होगी। वहीं उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने मंदिर-मस्जिद सहित सभी धर्मस्‍थलों पर तय मानकों के मुताबिक लाउडस्पीकर को कम आवाज में बजाने को निर्देश जारी किया है। नियमों का उल्लंघन पर लाउड स्पीकर को उतारने का आदेश दिया है। विवाद के बाद कई धार्मिक स्थलों ने खुद ही लाउडस्पीकर उतार लिए।

error: Content is protected !!