Breaking News
.

खैरागढ़ विधानसभा उप चुनाव में भाजपा से कोमल जंघेल को और जकांछ से लड़ेंगे नरेंद्र सोनी को बनाया प्रत्याशी …

रायपुर। राजनांदगांव जिलांतर्गत खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव के लिए भाजपा व जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। भाजपा ने पूर्व विधायक कोमल जंघेल को उम्‍मीदवार बनाया है। जंघेल पिछले चुनाव में जकांछ उम्‍मीदवार राजा देवव्रत सिंह से 870 वोटों से हार गए थे। इधर जकांछ (जे) ने नरेंद्र सोनी पर भरोसा जताया है। सोनी पेशे से वकील हैं। कांग्रेस ने यशोदा वर्मा को अपना उम्मीदवार बनाया है।  

खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव के लिए भाजपा ने खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र के सामाजिक समीकरण के हिसाब से कोमल जंघेल पर भरोसा जताया है। कोमल इससे पहले भी इस विधानसभा सीट से चुनाव लड़ चुके हैं और बहुत कम अंतर से चुनाव हारे हैं। वहीं जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने वकील नरेंद्र सोनी को प्रत्याशी बनाया है। 40 वर्षीय नरेंद्र सोनी छात्र जीवन से राजनीति से जुड़े हुए हैं। महाविद्यालय में अध्यक्ष भी रह चुके हैं। नरेंद्र ने एलएलबी की पढाई की है। पिछले सात माह से खैरागढ़ को जिला बनाने क्रमिक भूख हड़ताल आंदोलन की अगुवाई भी कर रहे हैं।

वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के उम्मीदवार देवव्रत सिंह को 61 हजार 516 और भाजपा के कोमल जंघेल को 60 हजार 646 वोट मिले थे। जबकि कांग्रेस उम्मीदवार तीसरे स्थान पर थे। कांग्रेस को छजकां प्रत्याशी देवव्रत सिंह से करीब 18 फीसद कम वोट मिले थे। छत्तीसगढ़ में उपचुनाव में हमेशा सत्ता पक्ष के उम्मीदवार को फायदा मिला है। इससे पहले हुए दंतेवाड़ा उप चुनाव में कांग्रेस को फायदा मिला था। भाजपा शासनकाल में संजारी बालोद में हुए उप चुनाव में भाजपा को फायदा मिला था।

खैरागढ़ विधानसभा उप चुनाव के लिए 17 मार्च से नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। यह 24 मार्च तक चलेगी। तय कार्यक्रम के अनुसार स्कूटनी के बाद 28 मार्च तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। उप चुनाव के लिए 12 अप्रैल को मतदान होगा और 16 अप्रैल को मतगणना होगी। राजनांदगांव जिले की यह सीट खैरागढ़ सियासत के राजा और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के विधायक देवव्रत सिंह के निधन के बाद खाली हुई है।

error: Content is protected !!