Breaking News
.

यूक्रेन का असर: कच्चे तेल की कमी से जूझ रहा अमेरिका, 35 सालों के निचले स्तर पर रणनीतिक पेट्रोलियम भंडार …

वॉशिंगटन। अमेरिका में आपातकालीन उपयोग के लिए संग्रहीत कच्चे तेल की मात्रा 35 साल के निचले स्तर पर पहुंच गई है क्योंकि देश में ईंधन की कमी को दूर करने के लिए जो बाइडेन प्रशासन ने रणनीतिक पेट्रोलियम भंडार (एसपीआर) से कच्चा तेल सप्लाई का फैसला किया था। अमेरिकी ऊर्जा विभाग से मिले आंकड़ों में यह बात सामने आई है।

ऊर्जा विभाग की ओर से संग्रहीत तेल पर जारी हालिया आंकड़ों के अनुसार, एसपीआर में कच्चे तेल की मात्रा में इस सप्ताह के दौरान 13 मई तक 50 लाख बैरल की कमी आई है, इससे अब यह गिरकर 53.8 करोड़ बैरल तक पहुंच गई है।

यह दिखाता है कि अमेरिका में आपातकालीन इस्तेमाल के लिए कच्चे तेल का भंडार वर्ष 1987 के बाद से सबसे निचले स्तर पर है।

गौरतलब है कि इस सप्ताह के दौरान 13 मई तक भंडार से निकाले गए 50 लाख बैरल में से कुछ 39 लाख बैरल निम्न स्तर का कच्चा तेल था जबकि बाकी 11 लाख बैरल उच्च स्तर का कच्चा तेल था। निम्न स्तर का कच्चा तेल मध्यम किस्म का तेल होता है जिसमें सल्फर की मात्रा अधिक होती है और यह उच्च स्तर के कच्चे तेल की तुलना में अधिक चिपचिपा होता है। आमतौर पर ट्रक, बस और ट्रेन के साथ-साथ जेट के संचालन के लिए निम्न स्तर के कच्चे तेल की आवश्यकता होती है। दूसरी ओर, उच्च स्तर के कच्चे तेल में सल्फर की मात्रा बहुत कम होती है। इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से गैसोलीन बनाने के लिए किया जाता है, जिसे अमेरिका के बाहर पेट्रोल के रूप में भी जाना जाता है।

यूक्रेन में रूस के विशेष सैन्य अभियान के कारण मॉस्को पर अधिकांश पश्चिमी देशों द्वारा लगाए गए प्रतिबंध से कच्चे तेल के निर्यात में भारी कमी आई है। इसके अलावा, कोरोना वायरस महामारी के दौरान कई रिफाइनरियों के बंद होने से भी अमेरिका की तेल शोधन क्षमता में कमी आई है, जिससे समस्या बढ़ गई है। ईंधन की इसी कमी से निपटने के लिए बाइडेन प्रशासन ने नवंबर से कई चरणों में एसपीआर से तेल जारी करना बरकरार रखा।

फरवरी से अप्रैल के महीने के दौरान घरेलू रिफाइनरों की कच्चे तेल की मांग को पूरा करने में मदद करने के लिए प्रशासन ने हर हफ्ते एसपीआर से औसतन 30 लाख बैरल तेल निकाला। एसपीआर से बाइडेन प्रशासन की सबसे बड़ी रिलीज इसी महीने होगी, जब रिजर्व भंडार से से कुल 18 करोड़ बैरल-या 180 दिनों की अवधि में प्रतिदिन 10 लाख बैरल कच्चा तेल जारी किया जाएगा।

error: Content is protected !!