Breaking News
.

भूपेश बघेल जब राजनीति की एबीसीडी सीख रहे थे उस समय मैं केन्द्र में मंत्री था : डॉ. रमन सिंह…

बिलासपुर। भाजपा पहले भी मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित कर प्रदेश में चुनाव नहीं लड़ी थी और इस बार भी विकास के नाम पर ही चुनाव लड़ा जाएगा। यह बातें प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने अविभाजित मध्यप्रदेश के पूर्व खाद्यमंत्री मूलचंद खंडेलवाल को श्रद्धांजलि देने सोमवार को बिलासपुर पहुंचे थे। वे व्यापार विहार स्थित पूर्व मंत्री के निवास स्थान साईं मंगलम पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके परिजनों को सांत्वना दी।

भूपेश बघेल के एक बयान पर सवाल पर उन्होंने पलटवार करते हुए कहा कि डॉ. रमन 15 साल राज्य में मुख्यमंत्री और पार्सल केंद्र में मंत्री रहे। जब भूपेश बघेल राजनीति का एबीसीडी सीख रहे थे उस समय वे केंद्र में मंत्री थे। इसलिए डॉ. रमन को अपनी पूछपरख के लिए भूपेश बघेल की आवश्यकता नहीं है। वहीं उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि प्रदेश में किसान आत्महत्या कर रहा है। बस्तर के किसान को मारा जा रहा है और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री प्रदेश के करोड़ों रुपए उत्तर प्रदेश में बांटकर प्रियंका गांधी को खुश करने में लगे हुए हैं ।

प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहद खराब है । कांग्रेस के नेता कभी भी अधिकारियों की पिटाई कर देते हैं। मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री के बीच ढाई-ढाई साल का पेंच फंसा हुआ है। मुख्यमंत्री अपनी कुर्सी बचाने की चिंता में ही मगन है। इसलिए उन्हें प्रदेश की चिंता नहीं है। कांग्रेस का अंतर्कलह सार्वजनिक हो रहा है। एक सवाल का जवाब देते उन्होंने कहा कि देश और प्रदेश के किसी भी थर्मल प्लांट में कोयले की कोई कमी नहीं है। वहीं उन्होंने पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों के लिए अंतर्राष्ट्रीय बाजार को दोषी ठहराया। इस बीच उन्होंने संगठन में हाल-फिलहाल किसी बड़े बदलाव से भी इनकार किया।

इस मौके पर उनके साथ विधायक रजनीश सिंह, डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी, जिला अध्यक्ष रामदेव कुमावत, पूर्व महापौर किशोर राय, पूर्व सांसद लखनलाल साहू आदि मौजूद थे। इस अवसर पर स्वर्गीय मूलचंद खंडेलवाल के पुत्र दीपक और संजय खंडेलवाल से मुलाकात कर उन्होंने अपनी संवेदनाएं व्यक्त की।

error: Content is protected !!