Breaking News
.

आदित्य बिड़ला समूह जल्द शुरू करेगा मध्यप्रदेश की बंदर हीरा खदान…

भोपाल। मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले की बंदर हीरा खदान पर आदित्य बिड़ला समूह जल्दी ही काम शुरू कर देगा, क्योंकि सरकार ने इसका आशय पत्र (एलओआई) समूह के अधिकारियों को सौंप दिया है।

छतरपुर जिले के बकस्वाहा की बंदर हीरा खदान 364 हेक्टेयर वनभूमि में है, जिसमें 34. 2 मिलियन कैरेट हीरा होने की संभावना है। इसकी कीमत करीब 55 हजार करोड़ रुपये है। इसके लिए पांच कंपनियों यानी भारत सरकार के उपक्रम नेशनल मिनरल डेवलपमेंट कॉपोर्रेशन लिमिटेड, एस्सेल माइनिंग, रूंगटा माइंस लिमिटेड, अडानी ग्रुप की चेंदीपदा कलरी और वेदांता कंपनी ने तकनीकी निविदाएं जमा की थीं।

आदित्य बिड़ला ग्रुप की कंपनी ने बंदर खदान को नीलामी के दौरान उच्चतम बोली 30.5 प्रतिशत लगाकर प्राप्त किया है। यह खदान एशिया महाद्वीप की सबसे उत्कृष्ट जैम क्वालिटी के हीरों की खदान है। नीलामी प्रक्रिया में देश की बड़ी कंपनियों में शुमार अडानी ग्रुप 30 प्रतिशत अधिकतम बोली लगाकर दूसरे स्थान पर रहा।

खनिज साधन मंत्री प्रदीप जायसवाल ने इस हीरा बंदर खदान का आशय-पत्र (एलओआई) गुरुवार को कंपनी के अधिकारियों को प्रदान किया। इस आशय पत्र के बाद कंपनी को क्षेत्र में काम करने की अनुमति मिल गई है। इसके जरिए समूह वे सभी प्रक्रियाएं शुरू कर सकेगा, जिससे जमीनी स्तर पर काम शुरू हो सके।

error: Content is protected !!