Breaking News
.

पिता का इलाज कराने साहूकारों से ले रखा था कर्ज, बेच दिए थे पत्नी के जेवर; तंग आ कर युवक ने कर ली आत्महत्या …

बिलासपुर । कर्ज से तंग आकर बिल्डिंग मटेरियल सप्लायर के जहर खाकर आत्महत्या करने का मामला सामने आया है। उसने अपने पिता के इलाज के लिए अपनी पत्नी के जेवर बेच दिया था और कर्ज भी लिया था। बताया जाता है कि तीन माह पहले प्रदीप पांडेय के भाई दिलीप पांडेय ने उन पर हमला किया था और दोनों पैर तोड़ दिया था। इसी हमले में घायल पिता का इलाज कराने के लिए युवक ने बड़ा कर्ज ले रखा था। परिजन का आरोप है कि कर्जदारों से परेशान होकर उसने यह आत्मघाती कदम उठाया है। मामला सरकंडा थाना क्षेत्र का है।

जानकारी के अनुसार बंधवापारा निवासी जीत्तू उर्फ अश्वनी जायसवाल पिता अयोध्या प्रसाद जायसवाल (32) बिल्डिंग मटेरियल सप्लायर था। बंधवापारा चौक के पास ही वह अपनी दुकान चलाता था। दो-तीन माह पर उसके पिता अयोध्या प्रसाद पर हमला कर दिया गया था। जिससे उनके दोनों पैर टूट गया था। उनके इलाज के लिए रुपयों की जरूरत पड़ी, तब उसने अपनी पत्नी के जेवर बेच दिया और दुकान का सामान भी बेच दिया। इसके बाद उसने कई लोगों से कर्ज भी लिया था। इससे वह परेशान रहने लगा था।

शनिवार की देर रात उसने अपने घर में जहर खा लिया। जिससे उसकी मौत हो गई। सुबह परिजन को इस घटना की जानकारी हुई। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई है। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

जीत्तू जायसवाल के घर में उसके पिता के साथ ही उसकी पत्नी इंद्राणी जायसवाल व दो छोटे-छोटे बच्चे हैं। इनमें 6 साल की डिंपल बड़ी बेटी है और तीन साल का बेटा है। इस घटना से इन मासूम बच्चों के सिर से पिता का साया उठ गया है।

अयोध्याप्रसाद ने बताया कि तीन माह पहले सेवादल के ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रदीप पांडेय के भाई दिलीप पांडेय ने उन पर हमला किया था और दोनों पैर तोड़ दिया था। इस गंभीर मामले में सरकंडा पुलिस ने आरोपी के खिलाफ साधारण मारपीट का मामला दर्ज कर खानापूर्ति कर लिया था। बताया जा रहा है कि अश्वनी ने उससे भी कर्ज लिया था। जिसके कारण उसके पिता पर हमला कर दिया था।

error: Content is protected !!