Breaking News
.

अच्छी खबर : 40 करोड़ में बन रहा भोपाल से इंदौर का नया रास्ता…

भोपाल। राजधानी भोपाल से इंदौर जाना और आसान हो जाएगा. नई सड़कें से राजधानी की के करीब 10 लाख लोगों को बड़ी राहत मिलेगी. लोगों को घूमकर कई किलोमीटर तक नहीं जाना पड़ेगा. यहां भदभदा पर कलियासोत डैम के किनारे रिटेनिंग वॉल बनाई जा रही है. यह वॉल 700 मीटर लंबी है. इस वॉल की फिलिंग करीब 14 मीटर तक की जा रह है, ताकि सड़क पर टर्निंग आसान हो जाए.

 

भोपाल जिला प्रशासन भदभदा ब्रिज से नीलबड़ तिराहा तक सड़क को फोरलेन कर रहा है. करीब 8.5 किलोमीटर सड़क पर हो रहा ये काम मार्च तक पूरा होने की संभावना है. जब ये सड़क बन जाएगी, तब नए भोपाल यानी कोलार-चूनाभट्टी और न्यू मार्केट की ओर से इंदौर जाने वालों को नया विकल्प मिल जाएगा. अब तक यह सड़क केवल 2 लेन ही थी. जानकारी के मुताबिक, साक्षी ढाबे तक सड़क को 6-लेन किया जाएगा. प्रशासन इस प्रोजेक्ट पर करीब 40 करोड़ रुपये खर्च करेगा.

 

शहर की नगर निगम सीमा बढ़ी

पीडब्ल्यूडी से मिली जानकारी के मुताबिक, नीलबड़ तिराहा, साक्षी ढाबा तिराहा और सूरज नगर तिराहा को दोबारा बनाया जा रहा है. बता दें, पहले शहर की नगर निगम सीमा सीमित थी. इस सीमा में भदभदा इलाका ही शामिल था. लेकिन, अब इस सीमा में रातीबड़ क्षेत्र भी शामिल हो गया है. प्रशासन यहां कई नई कॉलोनियां भी बना रहा है. इस वजह से यहां ट्रैफिक का लोड लगातार बढ़ता जा रहा है. यहां बड़ी संख्या में स्कूल और कॉलेज भी स्थापित किए गए हैं.

 

इतनी बड़ी आबादी को होगा फायदा

गौरतलब है कि शहर की बड़ी आबादी होशंगाबाद रोड और कोलार के आस-पास बस चुक है. सैकड़ों कॉलोनियां बस गई हैं. इस प्रोजेक्ट के बन जाने से इन लोगों को सीधा फायदा होगा. ये आबादी करीब-करीब दस लाख है. इस आबादी को पुराने शहर होते हुए बैरागढ़ से नहीं जाना होगा. ये इंदौर के लिए नई सड़क से गुजर जाएंगे.

 

इस वजह से 6 करोड़ बढ़ी लागत

गौरतलब है कि इस प्रोजेक्ट की लागत करीब 6 करोड़ रुपये बढ़ गई है. अभी इस पर 40 करोड़ रुपये की लागत आएगी, जबकि अनुमान 34 करोड़ रुपये लगाया गया था. बताया जा रहा है कि रिटेनिंग वॉल और पाइपलाइन शिफ्टिंग की वजह से ये लागत बढ़ रही है.

error: Content is protected !!