Breaking News
.

चिंतन शिविर से आएंगे अच्छे दिन! सिर्फ रस्म अदायगी नहीं चाहती सोनिया गांधी ….

नई दिल्ली। आगामी शुक्रवार यानि 13 मई का दिन कांग्रेस पार्टी के लिए बेहद अहम है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सोमवार को जोर देकर कहा कि चिंतन शिविर एक रस्म नहीं बननी चाहिए, जिससे गुजरना पड़ता है। उन्होंने कहा, “मैं यह सुनिश्चित करने में आपके पूर्ण सहयोग का अनुरोध करती हूं कि उदयपुर से जो संदेश स्पष्ट और स्पष्ट रूप से सामने आता है वह हमारी पार्टी के त्वरित पुनरुद्धार के लिए एकता, एकजुटता, दृढ़ संकल्प और प्रतिबद्धता में से एक है।”

सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी वाड्रा के अलावा पार्टी के कई वरिष्ठ नेता राजस्थान के उदयपुर की यात्रा करेंगे। साथ ही तीन दिवसीय विचार-मंथन सत्र का आयोजन भी होना है। इस सत्र को ‘चिंतन शिविर’ का नाम दिया गया है। चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को साइड करने के बाद पार्टी बड़े फैसले तो ले रही है लेकिन अभी भी दिल्ली काफी दूर है। कांग्रेस में लड़ाई सिर्फ चुनावी जीत की नहीं पार्टी नेताओं को बूस्ट करने और कार्यकर्ताओं के भरोसे को फिर से जीतने की है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि इस बार सोनिया गांधी चिंतन शिविर को महज मीटिंग की रस्म अदायगी के तौर पर नहीं लेना चाहती, यही वजह है कि चिंतन शिविर से पहले कांग्रेस पार्टी ने एक नेता एक पद का फॉर्मूला अपनाना शुरू कर दिया है। आगे जानिए क्या है यह चिंतन शिविर…

कांग्रेस इस वक्त राजनीतिक, आर्थिक और संगठनात्मक मोर्चों पर चुनौतियों का सामना कर रही है। अपने राजनीतिक भविष्य को मजबूत करने के लिए राजस्थान के उदयपुर में तीन दिवसीय विचार-मंथन सम्मेलन होने जा रहा है। यह पहली बार नहीं है कि कांग्रेस पार्टी चुनावी हार के बाद या किसी बड़ी चुनौती से पहले रणनीति बनाने के लिए बोर्ड पर वापस गई हो, इससे पहले भी यह होता रहा है लेकिन परिणाम पटल से धरातल पर नहीं नजर आया। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या इस बार भी कांग्रेस पार्टी की मीटिंग सिर्फ रस्म अदायगी तक ही सीमित हो जाएगी या कुछ बड़ा बदलाव निकलकर सामने आएगा।

पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के दौरान कहा था कि लगभग 400 कांग्रेस सदस्य 13 से 15 मई तक उदयपुर में चिंतन शिविर में शामिल होंगे और उन्होंने हर नेता के एक पार्टी पद पर रहने के संदेश पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि पार्टी ने हर कोण से संतुलित प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास किया है।

चिंतन शिविर कांग्रेस संसदीय बोर्ड (सीपीबी) के पुनरुद्धार का मार्ग प्रशस्त करेगा। एआईसीसी, पीसीसी और डीसीसी के अपने पहले पूर्ण कार्यकाल के बाद प्रति परिवार केवल एक टिकट देने और पदाधिकारियों के लिए तीन साल की कूलिंग ऑफ अवधि अनिवार्य करने पर निर्णय करेगा। विचार-मंथन सत्र में कांग्रेस कमेटी के पैनल में कटौती का प्रस्ताव भी रखा जाएगा।

माना जा रहा है कि पार्टी का एक परिवार-एक टिकट का प्रस्ताव भाजपा के वंशवाद के आरोपों के बाद आया है। तीन दिवसीय शिविर में यह तय होगा कि शीर्ष नेतृत्व को विवेकाधीन शक्तियों के माध्यम से प्रस्तावों को स्वीकार किया जाता है या अस्वीकार कर दिया जाता है।

किसानों के मुद्दे पर बीएस हुड्डा के नेतृत्व वाला पैनल प्रस्ताव करेगा कि भविष्य की कांग्रेस सरकारें न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की कानूनी गारंटी के लिए केंद्रीय कानून बनाएगी। पैनल एमएसपी दर से कम पर खुले बाजार से कृषि उत्पादों की खरीद को “एक दंडनीय अपराध” बनाना चाहता है और किसानों के घरेलू बाजार हितों की रक्षा करके भविष्य के निर्यात / आयात शुल्क दरों को तय करना चाहता है।

उन्होंने पार्टी को एकजुट होने की आवश्यकता पर जोर दिया और सभी को याद दिलाया कि अब पार्टी के नेताओं के लिए “पार्टी को अपना कर्ज चुकाने” का समय है। उन्होंने कहा, “मैं दृढ़ संकल्पित हूं कि इसे कई वैचारिक, चुनावी और प्रबंधकीय चुनौतियों का सामना करने के लिए एक पुनर्गठित संगठन की शुरुआत करनी चाहिए।”

सीडब्ल्यूसी की बैठक में बोलते हुए, उन्होंने कांग्रेस में बदलाव चाहने वालों से एक स्पष्ट अपील करते हुए कहा कि आलोचना ठीक है, लेकिन यह पार्टी का मनोबल गिराने की हद तक नहीं होनी चाहिए।

1996 और 2004 के बीच, जब कांग्रेस विपक्ष में थी, पार्टी ने 1998 में पचमढ़ी में और 2003 में शिमला में दो चिंतन शिविर आयोजित किए, एक AICC सत्र और दो AICC विशेष सत्र। वहीं, 2004 से 2014 तक सत्ता में रहते हुए भी, पार्टी ने पांच सम्मेलन आयोजित किए – जयपुर में एक चिंतन शिविर, दो एआईसीसी सत्र, एक पूर्ण और एक विशेष सत्र।

हालांकि, पिछले आठ वर्षों में, यकीनन पार्टी के इतिहास में सबसे कठिन समय, कांग्रेस ने केवल एक राष्ट्रीय सम्मेलन, 2018 AICC पूर्ण सत्र दिल्ली में आयोजित किया है।

 

error: Content is protected !!