Breaking News
.

पूर्व भारतीय नाविक ने कहा- फालुन दफा अभ्यास चुनौतियों से निपटने देता है आंतरिक शक्ति …

बेंगलुरू। 61 वर्षीय पूर्व भारतीय नाविक: ‘फालुन दाफा अभ्यास चुनौतियों से निपटने के लिए आंतरिक शक्ति देता है’। करुणामयी बनने के लिए और शांति पाने के लिए जंगल की ओर रुख करना या छुट्टियों पर चले जाने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि किसी व्यक्ति को जीवन की सबसे थकाने वाली और चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में भी अपने भीतर ही सामंजस्य प्राप्त हो सकता है — जिससे उन परिस्थितिओं को समय पर बदला जा सकता है।

यह भारत के एक पूर्व नाविक की कहानी है, जिनकी “फालुन दाफा” ध्यान की आध्यात्मिक यात्रा ने उनके लिए सच्ची खुशी और दयालुता के अनपेक्षित प्रबल सागरों को खोला।

मिलिए 61 वर्षीय संजीव भल्ला से मिलें, जो एक पूर्व नाविक है और जो वर्तमान में पेशे से कोडर है।

“मेरा बचपन हवाई जहाज़ों के बीच बीता था क्योंकि मेरे पिता वायुसेना में थे। मुझे छोटी उम्र से ही भारत के विभिन्न हिस्सों के अनुभव प्राप्त करने का मौका मिला। लेकिन मैंने इसके बजाय समुद्री जहाज़ों को चुना और मैंने मेरे जीवन के 14 वर्ष सात समुद्रों में नौकायन करते हुए बिताए।”

उन्होंने कहा कि दुनिया भर में नौकायन करना रोमांचक और चुनौतीपूर्ण, दोनों थे। जबकि समुद्र ने उन्हें आत्म-विचार और अपरिचित अनुभवों के अदभुत और सुन्दर क्षणों का उपहार दिया, लेकिन उसने उन्हें कई जीवन-मृत्यु के बीच की स्थितियों में भी डाल दिया था : चीन के दक्षिणी समुद्र में एक गंभीर 3-दिवसीय तूफान से जीवित बच निकलने की, और न्यूयॉर्क बंदरगाह पर एक जहाज पर विस्फोट से बच निकलने की कल्पना करें।”

आखिरकार, बेहद कठिन काम के 14 सालों ने भल्ला के स्वास्थ्य पर अपना असर दिखाया। उन्होंने कहा, “मुझे असहनीय दर्द के साथ दो रीढ़ की हड्डियों के विघटन का सामना करना पड़ा, जिसे मैं बयां नहीं सकता, और इसलिए मैंने अंततः उन विस्मयकारी समुद्रों से बिदाई ली और बैंगलोर में बस गया।”

यह उनके जीवन का वह समय था जब भल्ला ने कोडिंग सीखना शुरू कर दिया था, लेकिन कंप्यूटर पर लंबे समय तक काम करना आसान नहीं था। उन्होंने याद करते हुए कहा कि कैसे तीव्र स्पोंडिलाईटिस के कारण उन्हें गंभीर गर्दन के दर्द को कम करने के लिए अक्सर सपोर्ट कॉलर पहनना पड़ता था।

उन्होंने कहा, “दर्द का लाभ है। यह आपको ऐसे प्रश्न पूछने के लिए प्रेरित करता है जो आप कभी सोच नहीं सकते। मैंने भी कई आध्यात्मिक प्रथाओं के दरवाजे खटखटाए, मेरे दर्द को नियंत्रित करने के लिए फिजियोथेरेपी, योग, इत्यादि की सहायता भी ली। लेकिन वास्तव में किसी ने भी मुझे स्थायी इलाज प्रदान नहीं किया, जब तक कि मैं एक प्राचीन आध्यात्मिक अभ्यास, जिसे फालुन दाफा कहा जाता है, के संपर्क में नहीं आया।”

फालुन दाफा (जिसे फालुन गोंग भी कहा जाता है) एक प्राचीन आध्यात्मिक प्रणाली है, जिसमें पांच सौम्य लयबद्ध अभ्यास और “सत्य, करुणा और सहनशीलता” के तीन मुख्य सिद्धांत शामिल हैं। भल्ला ने कहा कि उन्होंने घर पर और अन्य अभ्यासिओं के साथ पार्क में नियमित रूप से फालुन दाफा के व्यायाम का अभ्यास करना शुरू किया।

“ये सरल अभ्यास कहीं भी किये जा सकते हैं। उन्होंने कहा, “दिन के किसी भी समय का कोई नियम नहीं है, इसलिए यह मेरे लिए बहुत सुविधाजनक हो गया।”

“यह मेरी फालुन दाफा की आध्यात्मिक यात्रा का दूसरा वर्ष था जब एक चमत्कार हुआ। वह दिन ऐसा है जैसे किसी काल्पनिक उपन्यास से लिए गया हो — यह एक अवास्तविक एहसास था! फालुन दाफा के दूसरे अभ्यास के दौरान, मुझे ऊर्जा का भारी प्रवाह महसूस हुआ, और उसने मेरे पूरे शरीर को हिलाकर रख दिया। मैंने अपनी गर्दन में एक क्लिकिंग की ध्वनि सुनी, और मैंने इसके बाद कभी भी सपोर्ट कॉलर नहीं पहना। मैंने तब से डॉक्टर का दौरा नहीं किया है। मेरी गर्दन का तीव्र स्पोंडिलिटिस ठीक हो गया था, और मेरी रीढ़ की हड्डी फिर कभी विघटित नहीं हुई,” उन्होंने कहा।

उस घटना को 10 साल हो चुके हैं, और भल्ला खुद का वर्णन पहले से अधिक स्वस्थ होने का करते हैं। हालांकि, उन्होंने जोर देते हुए कहा कि “इन अभ्यासों को अकेले करना पर्याप्त नहीं है। सत्य, करुणा और सहनशीलता के साथ जीना महत्वपूर्ण है।”

“बहुत कम उम्र से, मैं अपने जीवन और विशाल ब्रह्मांड के बारे में जवाब ढूंढ रहा हूं, और मैं उनकी खोज में विभिन्न आध्यात्मिक प्रथाओं के माध्यम से गुज़रा हूँ। जब मैंने फालुन दाफा अभ्यास की मुख्य पुस्तक – ज़ुआन फालुन – पढ़ा, तो मुझे अंततः मेरे उत्तर बहुत स्पष्टता के साथ मिल गए। इस पुस्तक को बार बार पढ़ने के बाद, जवाब धीरे-धीरे स्पष्ट होने लगे हैं। अब मेरे पास कोई प्रश्न नहीं है, बल्कि मेरे जीवन का केवल एक स्पष्ट मार्ग रह गया है। “

उन्होंने कहा, “फालुन दाफा की सरल लेकिन गहन शिक्षाएं मुझे मेरे जीवन के हर पहलू में मार्गदर्शन करती हैं!”

error: Content is protected !!