Breaking News
.

अरपा नदी के संरक्षण और संवर्धन के लिए डॉ. सोमनाथ यादव सहित मंच के सदस्यों ने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा गया ज्ञापन महापौर को …

बिलासपुर। अरपा नदी बचाओ अभियान के तहत बिलासा कला मंच बिलासपुर के सदस्यों द्वारा अनेक वर्षों से अरपा नदी के उद्गम अमरपुर पेंड्रा से संगम ग्राम मंगला पासीद, बिल्हा तक की तीन दिनी यात्रा की जाती है,जिसमें नदी, तालाब, खेत, वृक्ष, पर्यावरण की संरक्षण, संवर्धन हेतु जनजागरण अभियान चलाया जाता है। साथ ही समय समय पर शासन, प्रशासन को अरपा नदी और सहायक नदी नालों में व्याप्त समस्याओं और लोगों की परेशानियों को लेकर मुख्य मंत्री सहित जनप्रतिनिधियों को ज्ञापन सौंप उचित कार्यवाही के लिए निवेदन की जाती है।

अरपा बचाओ अभियान के संयोजक द्वारा सोमनाथ यादव के साथ महेश श्रीवास, डॉ सुधाकर बिबे, देवानंद दुबे, रामेश्वर गुप्ता, यश मिश्रा, ओमशंकर लिबर्टी, अनूप श्रीवास, शिव यादव ने गत दिनों उदगम से संगम तक की यात्रा के दौरान जो देखा और लोगो ने जो बताया उसकी बिंदुवार पत्र मुख्यमंत्री के नाम महापौर को ज्ञापन सौंप शीघ्र और ठोस कार्रवाई की मांग की गई। जो मांग की गई है उसमे 1, अरपा नदी के दोनों किनारों में ग्राम लोखड़ी से लावर तक गंदा पानी निकासी हेतु नाला निर्माण की जाए।

गंदा पानी का ट्रीटमेंट प्लांट ग्राम लावर पास बनाई जाए और उस पानी को आगे अरपा नदी में छोड़ा जाए या किसानों को अथवा एनटीपीसी सीपत को दे दी जाए। शेष बचे गाद को खाद के रूप में उपयोग में लाई जाए।

अरपा नदी के किनारे स्थित सैकड़ों एकड़ लगानी जमीन पानी में बह गई है, जिसमें अधिकांश किसानों का मुआवजा अभी तक नहीं मिला है,उसे तत्काल दी जाए।

अरपा नदी का कटाव रोकने हेतु रिटर्निंग वाल बनाई जाए।

अरपा नदी में कोनी से तोरवा तक सिल्ट है, अतः कोनी से तोरवा तक की सिल्ट को हटाई जाए, अभी सिल्ट हटाने का काम एक ही स्थान पर हो रहा है वह भी बहुत ही धीमी है जिसमें तेजी लाने की आवश्यकता है।

अरपा नदी के किनारों में देशी वृक्ष लगाई जाए, जिससे हरियाली के साथ कटाव रुकेगा और पानी रिचार्ज होगा।

बिलासपुर नगर का बरसाती नाला जवाली जो समय के अनुसार आज गंदा पानी निकासी का केंद्र बन गया है, उसकी चौड़ाई शीघ्र ही बढा़ई जाए और निर्माण कार्य शुरू की जाए (अभी डाक्टर सिहारे क्लीनिक से जूना बिलासपुर तक का निर्माण कार्य बन्द है)।

घुरू अमेरी, नेहरूनगर की ओर से बहकर आने वाला बरसाती पानी ओम नगर, पत्रकार कालोनी, जरहाभाठा आदि क्षेत्रों में भर जाता है। अतः बरसाती पानी को जतिया तालाब में डाला जा सकता है, उसी प्रकार रेलवे क्षेत्र का बरसाती पानी तोरवा क्षेत्र में भरता है। उस पानी को बंधवा तालाब में भी डाला जा सकता है।

अरपा नदी में ग्राम कोनचरा, बेलगहना से लेकर लिंगियाडीह, तोरवा बिलासपुर तक रेत का अवैध और हद से ज्यादा उत्खनन हो रहा है। जिससे अरपा नदी का अस्तित्व खतरे में है। वही जिला प्रशासन ठोस कार्रवाई करने में असफल रही है, इस पर शीघ्र ही कार्यवाही की जाए।

अरपा नदी के उद्गम अमरपुर पेंड्रा पर अभी तक कुछ भी कार्य शुरू नहीं हुआ है, इस ओर शीघ्र ही कार्यवाही हेतु सम्बन्धितों को आदेशित करने की कृपा करेंगे।

error: Content is protected !!