Breaking News
.

कोयला संकट की खबरों पर बोलीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण; भारत तो पावर सरप्लस देश है, दो दिन पहले भी दावों को किया था खारिज …

नई दिल्ली। भारत में कोयले की कमी की खबरों के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इन दावों को बेबुनियाद बताते हुए कहा है कि भारत तो ‘पावर सरप्लस’ देश है। सीतारमण ने कहा कि ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने दो दिन पहले ही आधिकारिक बयान देकर कोयला संकट के दावों को खारिज किया था।

बता दें कि विपक्षी पार्टियां इसे संकट को लखीमपुर खीरी के आपराधिक घटना को दबाने व मीडिया का ध्यान भटकाने के लिए संबंधित पार्टी द्वारा प्रायोजित किया जाना बताया जा रहा था। इन खबरों के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इन दावों को बेबुनियादी बताते हुए भारत को पावर सरप्लस देश बताया है। उन्होंने दो दिन पूर्व भी अधिकारिक तौर पर बयान जारी कर देश में कोयला संकट के दावों को खारिज किया था।

हार्वर्ड केनेडी स्कूल में मंगलवार को सीतारमण ने कहा, ‘एकदम बेबुनियाद! किसी चीज की कोई कमी नहीं है। बल्कि, अगर मैं ऊर्जा मंत्री का बयान याद दिलाऊं तो हर बिजली उत्पादन केंद्र के पास अगले चार दिन का कोयला स्टॉक में है और सप्लाई चेन नहीं टूटी है।’ कार्यक्रम के दौरान एक हार्वर्ड के प्रोफेसर लॉरेंस समर्स ने सीतारमण से कोयले की कमी और बिजली कटौती को लेकर सवाल किया। इसपर वित्त मंत्री ने कहा कि ऐसी कोई कमी नहीं होगी जिससे सप्लाई बाधित हो। भारत एक पावर सरप्लस देश है।

अमेरिका की आधिकारिक यात्रा पर पहुंचीं सीतारमण ने लखीमपुर खीरी में चार किसानों की मौत और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी के बारे में हार्वर्ड केनेडी स्कूल में बातचीत के दौरान पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा, अच्छा है कि आपने ऐसी घटना उठाई, जो पूरी तरह से निंदनीय है और हम में से हर कोई यह कह रहा है। इसी तरह दूसरी जगहों पर हो रही घटनाएं मेरी चिंता का कारण हैं।

सीतारमण ने कहा, ‘भारत में इस तरह के मामले देश के बहुत से अलग-अलग हिस्सों में समान रूप से हो रहे हैं। मैं चाहती हूं कि आप और डॉ. अमर्त्य सेन सहित कई अन्य लोग, जो भारत को जानते हैं, वे जब कभी ऐसी घटना होती है, उसे हर बार उठाएं। इस प्रकार की घटना को मात्र उस समय नहीं उठाया जाए, जब इन्हें उठाना हमारे लिए इसलिए अनुकूल है, क्योंकि यह एक ऐसे राज्य में हुई, जहां भाजपा सत्ता में है, जिसमें मेरे एक कैबिनेट सहयोगी का बेटा शायद मुश्किल में है।’ उन्होंने कहा कि इस घटना के पीछे किसका हाथ है, यह पता लगाने के लिए पूर्ण जांच की जाएगी।

error: Content is protected !!