Breaking News
.

ED सरकारें गिरा सकती है, मंत्रिमंडल नहीं बना सकती; राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बताई ये वजह …

जयपुर। सीएम गहलोत ने एआईसीसी मुख्यालय दिल्ली में प्रेस वार्ता में कहा कि महाराष्ट्र में 28 दिन से मंत्रिमंडल नहीं बना है। वहां सिर्फ मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री बनकर बैठे हैं। सीएम गहलोत ने कहा कि ईडी द्वारा जो तमाशा हो रहा है देश के अंदर। पहले राहुल गांधी को बुलाया और पांच दिन तक लगातार  50 घंटे पूछताछ की गई। ऐसा कभी होता नहीं है। किसी ने सुना भी नहीं होगा पांच दिन लगातार पूछताछ की गई हो।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मोदी सरकार पर जांच एजेंसियों का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है। सीएम गहलोत ने कहा कि देश के अंदर ईडी ने आतंक मचा रखा है। ईडी सरकारें गिरा सकती है, लेकिन मंत्रिमंडल नहीं बना सकती।

सोनिया जी को बुलाया गया है। आज तीसरे दिन लगातार पूछताछ की जा रही है। पता नहीं कब तक बुलाए। ये जो ईडी का आतंक है देश के अंदर। आतंक मचा रखा है। इसका फैसला जल्दी होना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट में केसेज चल रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट को चाहिए कि पूरे देश के अंदर जो देश का मूड है, उसे देखें। लोग चिंतित है।

ईडी का प्वाइंट 5 परसेंट सक्सेस रेट भी इनका नहीं है। क्यों नहीं इसके लिए जल्दी फैसला हो। ये सीआरपीसी को प्रोसेस भी एडोप्ट नहीं कर रहे हैं। इनका अलग ही तरीका है। तफ्तीश करने का भी। अरेस्ट करने का भी। बयान लेने का भी। ईडी को एक प्रकार से सीबीआई से भी ज्यादा पावर मिली हुई है।

ईडी का उपयोग सरकारें गिराने के लिए किया जाता है। गहलोत ने कहा कि सरकारें गिराने का काम ईडी करती है, लेकिन मंत्रिमंडल बनाने का काम नहीं कर सकती। 28 दिन हो गए लेकिन महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हुआ। महाराष्ट्र में सीएम और डिप्टी सीएम बैठे है। ये क्या इंगित करता है। डेमोक्रेसी किस दिशा में जा रही है। आप लोग सोच सकते हैं।

सीएम गहलोत ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि 2014 में जो इन्होंने वादे किए थे सब भुला दिए गए। सीएम ने कहा कि इन्होंने अपने वादें तो भूला दिए। मेरे पास पूरी लिस्ट है। 2014 के चुनाव अभियान के दौरान जो वादें किए थे। भुला दिए गए। लोकपाल बिल हो या फिर कालाधन। कालाधान लाने के लिए एसआईटी बनी थी। वह तो सब गायब हो गए।

सीएम गहलोत ने कहा कि महंगाई और बेरोजगारी हमारा मुख्य मुद्दा है, लेकिन मीडिया दिखाता नहीं है। टीवी चैनलों पर सिर्फ सोनिया गांधी से पूछताछ पर ही दिनभर डिबेट होती रह। मीडिया दबाव में है। मीडिया के मालिक घबराए हुए है। कभी भी रेड पड़ सकती है।

सीएम गहलोत ने कहा कि आज देश में महंगाई और बेरोजगारी की जो स्थिति है, आर्थिक स्थिति गर्त में जा रही है। उसे लेकर पूरा देश चिंतित है, नौजवान चिंतित है, उसके ऊपर संसद के अंदर बहस करना चाहे तो करने नहीं दी जाती है, 19 सांसदों को संस्पेंड कर दिया, पहले 4 को कर दिया। सीएम गहलोत ने कहा कि मुझे जहां तक याद है कि कांग्रेस के शासन में इतनी बड़ी संख्या में सांसदों को निलंबित नहीं किया गया है।

सन् 1980 से हम देख रहे हैं, उससे पहले भी। 12-12 दिन तक संसद नहीं चली है। तब भी किसी को बाहर फेंकने की बात नहीं होती थी। आज इन्होंने मजाक बना रखी है। तमाम स्थितियां बनी है देश के अंदर, इससे पूरा देश घबराया हुआ है। चिंतित है। इनकों इस बात का घमंड है कि देश इन बातों का सपोर्ट कर रहा है।

error: Content is protected !!