Breaking News
.

तानाशाह रूस का हमला जारी: यूक्रेन के बंकरों में ही बच्चे हो रहे पैदा, यूक्रेन के राष्ट्रपति की पत्नी ने एक नवजात की तस्वीर शेयर कर की भावुक अपील …

नई दिल्ली। रूस और यूक्रेन के बीच जारी भीषण युद्ध में यूक्रेनी लोग तबाही के कगार पर पहुंच चुके हैं। ना रूस पीछे हटने को तैयार है और ना ही यूक्रेन हार मान रहा है। इस युद्ध के चलते यूक्रेनी लोगों के जीवन में मानों अंधकार छा गया है। हालात यहां तक पहुंच गए हैं कि कई जगहों पर बंकरों के अंदर ही बच्चे पैदा हो रहे हैं, अस्पताल ही बंकर बन गए हैं। हाल ही में यूक्रेन के राष्ट्रपति की पत्नी ने एक नवजात बच्चे की तस्वीर शेयर करते हुए भावुक अपील की थी, यह बच्चा बंकर में ही पैदा हुआ था। इसके बाद ऐसे और भी मामले सामने आए हैं जो यूक्रेन की महिलाओं की तस्वीरें बयां कर रहे हैं।

दरअसल, एसोसिएट प्रेस ने यूक्रेन के मारियुपोल शहर की एक केस स्टडी के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया है कि यहां के एक अस्पताल के तहखाने में एक अस्थायी प्रसूति वार्ड में महिला ने बच्चे को जन्म दिया जबकि इस अस्पताल का ही एक भाग बंकर में तब्दील हो गया है। महिला अपनी भावनाओं को किसी तरह नियंत्रित किए हुए अपने बच्चे को पकड़े हुए दिख रही है। जबकि उसी वार्ड में डॉक्टर रूसी गोलाबारी में पीड़ित हुए लोगों के इलाज के लिए ऊपर की ओर दौड़ रहे थे।

रिपोर्ट के मुताबिक महिला ने कांपती हुई आवाज में बताया कि अपने बच्चे को जन्म देने के लिए मैं काफी चिंतित और दुखी थी। मैं डॉक्टरों की शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने बच्चे को इन परिस्थितियों में पैदा होने में मदद की। मुझे विश्वास है कि सब कुछ ठीक हो जाएगा। यूक्रेन का तटीय शहर मारियुपोल में अस्पताल बंकर में तब्दील हुआ क्योंकि इसके तहखाने में उनके लिए आश्रय बनाया गया जो रूसी सेना के हमले में पीड़ित हुए हैं। इसी में इस नवजात शिशु को सीढ़ियों से नीचे तहखाने में ले जाया गया, जहां एक मंद रोशनी वाला कमरा बिस्तरों से भरा हुआ था।

ऐसा ही एक मामला खारकीव में सामने आया, जहां एक महिला को प्रसूति वार्ड से बंकर में ले जाया गया। वहां नवजात बच्चे की सुरक्षा के लिए खिड़कियों पर गद्दों के बीच पालने में लिटा दिया। गोलाबारी में हताहतों की संख्या मारियुपोल प्रसूति अस्पताल में भी बढ़ गई है। यहां के एनेस्थिसियोलॉजी विभाग के प्रमुख ने एक एसोसिएटेड प्रेस वीडियो पत्रकार को बुलाया और मृतक को ढकने वाली एक शीट उठा ली। उसने कहा कि क्या मुझे और कुछ कहने की जरूरत है? यह सिर्फ एक लड़का है, ऐसे और भी तस्वीर देखी जा सकती है।

इसी वार्ड में एक अन्य महिला के मुंह से खून बह रहा था और वह इलाज के दौरान दर्द से कराह उठी। चिकित्सा पेशेवरों ने गोलाबारी के दौरान घायल हुए अन्य लोगों की सर्जरी भी की है। अस्पतालों और ऐसे इलाकों में यह सब तब हो रहा है जब रूसी सेना ने मंगलवार को भीड़-भाड़ वाले शहरी क्षेत्रों पर अपने हमले तेज कर दिए हैं। पहले सिर्फ यह बताया जाता था कि रूस की सेना यूक्रेन के सिर्फ सैन्य ठिकानों पर ही हमला कर रही है जबकि अब नजारा कुछ और ही सामने आ रहा है।

उधर एक हालिया बयान में ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने खुलासा किया कि उसने पिछले कुछ दिनों में आबादी वाले शहरी क्षेत्रों पर रूसी हवाई और तोपखाने के हमलों में वृद्धि देखी है। मंत्रालय ने कहा कि तीन शहरों में मारियुपोल खारकीव और खेरसॉन शामिल हैं। मारियुपोल को भी रूसी सेना एक प्रमुख लक्ष्य के रूप में देख रही है। यह रूस को क्रीमिया प्रायद्वीप और रूसी मुख्य भूमि के बीच एक भूमि गलियारा स्थापित करने में मदद करेगा।

बता दें कि छह दिन के बाद भी यूक्रेन और रूस की लड़ाई किसी मुकाम पर नहीं पहुंची है। विशेषज्ञों का कहना है कि रूसी सेना अब कीव के चारों तरफ पहुंच चुकी है। इसलिए संभावना है कि कीव पर कब्जा करने में अब ज्यादा समय नहीं लगेगा। लेकिन यदि रूस कीव कर कब्जा नहीं कर पाता है तो फिर युद्ध कई दिनों तक और लंबा खिंच सकता है।

error: Content is protected !!