Breaking News
.

सिंधिया-खटीक की आशीर्वाद यात्रा पर कांग्रेस ने खड़े किए सवाल, – 16 से शुरू होगी केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य की आशीर्वाद यात्रा

भोपाल। विपक्ष के खिलाफ केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और वीरेंद्र खटीक अब आशीर्वाद यात्रा पर निकलेंगे। ये यात्राएं 16 से 24 अगस्त तक होंगी। सिंधिया की इन यात्राओं पर कांग्रेस ने सवाल खड़े करना शुरू कर दिया है। पूर्व विधानसभा स्पीकर और कांग्रेस विधायक एनपी प्रजापति ने कहा कि सिंधिया और वीरेंद्र खटीक के आशीर्वाद यात्रा से क्या महंगाई कम हो जाएगी, क्या बेरोजगारी दूर हो जाएगी और पेट्रोल-डीजल के दाम कम हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि बीजेपी यात्राओं के नाम पर लाखों रुपए खर्च कर सिर्फ प्रोपेगंडा कर रही है। जनता इन आशीर्वाद यात्राओं के बहकावे में नहीं आएगी। जनता का मूल मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए इस तरह की यात्राओं का सहारा लिया जा रहा है। वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि यह शर्म की बात है कि प्रदेश में ग्वालियर-चंबल में बाढ़ से करोड़ों का नुकसान हुआ है और ऐसे में आशीर्वाद यात्रा निकाली जा रही है। इससे सवाल खड़े होते हैं।

सिंधिया और वीरेंद्र खटीक की आशीर्वाद यात्रा पर मंत्री विश्वास सारंग ने कहा है कि बीजेपी की आशीर्वाद यात्रा जनसंपर्क के लिए है। इसमें सरकार के मंत्री जनता को केंद्र सरकार की रीति-नीति बताएंगे। विश्वास सारंग ने कहा कि बीजेपी के नेता पद पर बैठकर एसी रूम में नहीं बैठते। ये परंपरा कांग्रेस की है। कमलनाथ 15 महीने मुख्यमंत्री रहे, लेकिन 15 जिलों में नहीं गए। सिंधिया और वीरेंद्र खटीक जनता के बीच जाकर जनसंपर्क करेंगे।

गौरतलब है कि लोकसभा और राज्यसभा में हुए भारी हंगामे के बीच मोदी सरकार में शामिल नए मंत्रियों को बोलने का मौका नहीं मिला। ऐसे में पार्टी ने अब सिंधिया की यात्रा का खाका तैयार किया है। इसके तहत नवनियुक्त मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और वीरेंद्र खटीक 16 अगस्त से 24 अगस्त तक यात्राओं के जरिए लोगों से सीधे रूबरू होंगे। यात्राओं के दौरान केंद्रीय मंत्री धार्मिक स्थलों, संत-महात्माओं, शहीदों और लोकतंत्र सेनानियों से आशीर्वाद लेंगे।

उप्र के बीजेपी सांसद और केंद्रीय विधि राज्यमंत्री एसपीएस बघेल 16 अगस्त को यात्रा लेकर एमपी आएंगे। वे कुल 177 किमी की यात्रा करेंगे, जिसमें 13 पड़ाव होंगे। यात्रा दतिया से शुरू होकर डबरा, ग्वालियर होते हुए मुरैना आएगी। एसपीएस बघेल सबसे पहले दतिया में मां पीताम्बरा के दर्शन कर यात्रा शुरू करेंगे। उसके बाद शिवलिंग विसर्जन के कार्यक्रम में शामिल होकर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात करेंगे। उसके बाद ब्राह्मण धर्मशाला में बघेल समाज के कार्यक्रम में शामिल होंगे। डबरा में बघेल समाज का स्वागत कार्यक्रम होगा। यात्रा उसके बाद मुरार आएगी। वे यहां बघेल हनुमान मंदिर में दर्शन करेंगे और डॉ. बलराम सिंह बघेल से मुलाकात करेंगे। वह अचलेश्वर महादेव के मंदिर में भी दर्शन करने जाएंगे।

17 अगस्त से केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया मालवा क्षेत्र में यात्रा निकालेंगे। उनकी यात्रा देवास, शाजापुर से शुरू होकर खंडवा, बुरहानपुर होते हुए 19 अगस्त को इंदौर पहुंचेगी। ज्योतिरादित्य सिंधिया की तीन दिन की यह यात्रा कुल 584 किमी की होगी, जिसमें 78 पड़ाव होंगे। सिंधिया 17 अगस्त को देवास में मां चामुंडा देवी के दर्शन के साथ यात्रा शुरू करेंगे। देवी दर्शन के बाद वे शास्त्रीय गायक और पदमश्री पुरस्कार विजेता कुमार गंधर्व की बेटी कोमकली गंधर्व से मुलाकात करेंगे। इसके बाद अंतरराष्ट्रीय कलाकार और राष्ट्रपति पुरस्कार विजेता राजकुमार चंदन से मिलेंगे। देवास के बाद शाजापुर में नैनावद महाकाल मंदिर के दर्शन करेंगे और राजराजेश्वरी मंदिर भी जाएंगे।

error: Content is protected !!