Breaking News
.

कांग्रेस नेता प्रमोद परस्ते ने कहा- गौ-रक्षा के विषय मे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व भारतीय जनता पार्टी शासित प्रदेश मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से लें सीख …

मरवाही (अनुपम शुक्ला)। क्षेत्र के दिग्गज आदिवासी नेता व पूर्व न्यायाधीश प्रमोद परस्ते ने छत्तीसगढ़ सरकार के गोबर व मूत्र खरीदने के गोधन न्याय योजना की जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा कि भूपेश बघेल की सरकार गोरक्षा के लिए गोठान, रोका छेका व गोधन न्याय योजना चलाकर यह सिद्ध कर दिया कि हम लोग गाय के नाम पे राजनीति नहीं बल्कि गौवंश की सच्ची सेवा करते हैं। उन्होंने इस विषय में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व बीजेपी शासित मुख्यमंत्रियों को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सीख लेने की सलाह भी दी है।

जिला कांग्रेस के महामंत्री, दिग्गज आदिवासी नेता व पूर्व न्यायाधीश प्रमोद परस्ते ने कहा कि हमारी सरकार गाय के नाम पर राजनीति नहीं बल्कि गौ वंश की सच्ची सेवा कर रही है और निश्चित रूप से गौमाता की सेवा का पुण्य फल छत्तीसगढ़ के यस्वसवी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित कांग्रेस पार्टी को आगामी कई वर्षों तक मिलते रहेगा।उन्होंने बीजेपी पर हमला बोलते हुये कहा कि बीजेपी केवल गाय के नाम पर राजनीति करती है और वास्तव में गाय से इनका दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं रहता है।

भाजपा के कार्यकर्ता गौरक्षा के नाम पर केवल गुंडागर्दी करते हैं। उन्होंने भूपेश बघेल के गौरक्षा के कार्यों की तारीफ करते हुए कहा कि हमारी कांग्रेस पार्टी सबसे पहले सत्ता में आते ही गायों व अन्य गौ वंश पशुओ के संवर्धन व उनकी रक्षा के लिए 5000 से अधिक गोठान का निर्माण करा चुकी है। इसके लिये छत्तीसगढ़ सरकार ने अलग से बजट का भी प्रावधान किया। इन गौठानों के माध्यम से गांव के गाय बैल आदि का रखरखाव अच्छे से होने लगा। इसके अतिरिक्त इन गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट खाद के साथ जैविक खाद का भी निर्माण होता है जिससे महिला स्वसहायता समूहों को आर्थिक लाभ भी बड़ी मात्रा में हो रहा है।

यही नहीं भूपेश बघेल सरकार ने किसानों की हित को ध्यान में रखते हुए पशुओ से उनके फसलों को बचाने के लिये अभी अभी “रोका छेका” कार्यक्रम का सुभारम्भ किये। प्रमोद परस्ते ने आगे कहा कि कल भूपेश बघेल के नेतृत्व में भारत के इतिहास में पहली बार छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा ऐतिहासिक फैसला लेते हुये गोबर व गौमूत्र खरीदने का निर्णय लिया है। इस गोधन न्याय योजना की शुरुवात हरेली के दिन से होगी। उनके इस निर्णय से समस्त गौपालकों से लेकर किसानों में हर्ष व्याप्त है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर बीजेपी शासित राज्यों की सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि गौरक्षा के विषय मे केंद्र सरकार से लेकर बीजेपी शासित सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सीख लेकर गौवंश की रक्षा का संकल्प लेना चाहिये।उन्होंने कहा कि बीजेपी जब सत्ता में रहती है तो उन्हें गाय की याद ही नहीं आती, जब सत्ता से दूर हो जाते हैं तो गाय गाय चिल्लाने लगते हैं।

क्षेत्र के दिग्गज आदिवासी नेता व पूर्व न्यायाधीश प्रमोद परस्ते ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार के गोबर व गौमूत्र खरीदने के फैसले से अब गांवों में गाय आदि पशुपालन को बढ़ावा मिलेगा। गौपालक दूध के अतिरिक्त अब गोबर व गौमूत्र भी बेच सकेंगे। इससे दूरगामी परिणाम यह होगा कि गौपालकों व किसानों के अतिरिक्त आय में जबरदस्त वृद्धि होगी और गांव का ग़रीब भी अब खुशहाल रहेगा।

error: Content is protected !!