Breaking News
.
File Photo
File Photo

सीएम योगी ने मथुरा-वृंदावन का 10 किमी क्षेत्र तीर्थस्थल घोषित कर शराब-मांस की बिक्री पर लगाई पाबंदी, लाखों लोग हुए बेरोजगार …

मथुरा । बीजेपी सरकार ने मथुरा और वृंदावन में 10 किलोमीटर के क्षेत्र को तीर्थस्थल घोषित कर दिया है। क्षेत्र में अब मांस और शराब की बिक्री पर पूरी तरह रोक रहेगी। तीर्थ स्थल घोषित किए गए इलाके में नगर निगम के 22 वार्ड आते हैं। अयोध्या, वाराणसी, मथुरा में सुविधाएं बेहतर की जा रही हैं। बीजेपी के इस हिन्दुवादी कदम से मांस के व्यवसाय से जुड़े लाखों लोगों को भूखे मरने की नौबत आ जाएगी और मांस का अवैध व्यापार भी बढ़ेगा। हालांकि अभी तक बीजेपी ने यह साफ नहीं किया है कि मांस के व्यवसाय से जुड़े लोगों को दूसरा रोजगार मुहैया कराएगी या नहीं।

इससे पहले सीएम योगी जन्माष्टमी के दिन मथुरा आए थे और कहा था कि मथुरा के वृन्दावन, गोवर्धन, नन्दगांव, बरसाना, गोकुल, महावन एवं बलदेव में जल्द ही मांस और शराब की बिक्री बंद होगी। कर इन कार्यों में लगे लोगों का अन्य व्यवसायों में पुनर्वास किया जाएगा। मथुरा में कृष्णोत्सव कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां का भौतिक विकास हो पर आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत को भी बचाए रखना है, क्योंकि यही देशवासियों की पहचान है।

यूपी में सरकार बनाते ही योगी सरकार ने धार्मिक स्थल घोषित करने की कवायद शुरू कर दी थी। अक्तूबर 2017 में कृष्ण की नगरी वृंदावन और राधा की जन्मस्थली बरसाना को धार्मिक स्थल घोषित करने की घोषणा हुई थी। यह भी कहा गया था कि सात स्थलों को भी धार्मिक स्थल घोषित किया जाएगा। वृन्दावन में हर साल डेढ़ करोड़ तो बरसाना में 60 लाख श्रद्धालु पहुंचते हैं।

error: Content is protected !!