Breaking News
.

चीन की कोरोना वैक्सीन निकली घटिया : बुजुर्गों को नहीं हो रहा कोई फायदा, दर्जनों देशों की बढ़ी टेंशन …

बीजिंग। चीन अपनी खराब गुणवत्ता वाली सामान को लेकर बदनाम है। भारत में तो खराब सामना और चीनी सामना एक-दूसरे के प्रयाय बन चुके हैं। एक नए अध्ययन से पता चला है कि एक सिनोफार्म वैक्सीन बुजुर्गों को कोरोना से खराब सुरक्षा प्रदान करती है। यह एक तरह से खराब असरदार वाली वैक्सीन है। चिंता का यह कारण सिर्फ चीन के लिए ही नहीं है, उन दर्जनों देश के लिए भी है जिसने यह वैक्सीन अपनी सबसे कमजार आबादी को दी है।

हंगरी में 450 लोगों से उनकी दूसरी सिनोफार्मा खुराक के कम से कम दो सप्ताह बाद लिए गए रक्त के नमूनों के एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 50 वर्ष से कम उम्र के 90 प्रतिशत लोगों ने सुरक्षात्मक एंटीबॉडी विकसित की। लेकिन उम्र के साथ प्रतिशत में गिरावट आई। 80 साल से अधिक लोगों में से सिर्फ 50% के शरीर में प्रतिरक्ष की कमी थी। यूं कहें तो उनकी इम्यूनिटी काफी खराब थी।

हंगरी के दो शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययन को इस सप्ताह ऑनलाइन पोस्ट किया गया था लेकिन अभी तक अन्य वैज्ञानिकों द्वारा इसकी समीक्षा नहीं की गई है। तीन बाहरी विशेषज्ञों ने कहा कि उन्हें सिनोफार्म के बीजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स द्वारा विकसित टीके के अध्ययन की कार्यप्रणाली से कोई समस्या नहीं है।

हॉन्ग कॉन्ग यूनिवर्सिटी के वायरोलॉजिस्ट जिन डोंग-यान ने कहा, “यह बहुत चिंताजनक है। सर्वाधिक जोखिम वाले लोगों की एंटीबॉडी प्रतिक्रिया खराब है।”

एंटीबॉडी का स्तर इस बात का प्रत्यक्ष माप नहीं है कि कोई व्यक्ति कोविड -19 से कितना सुरक्षित है, लेकिन इस बात के प्रमाण बढ़ रहे हैं कि वे एक अच्छे प्रॉक्सी हैं। एक विशेषज्ञ ने आगाह किया कि परीक्षण किट की पसंद माप की सटीकता को सीमित कर सकती है। फिर भी, अध्ययन के निष्कर्षों का मूल्य है और बुजुर्गों में सिनोफार्मा वैक्सीन के प्रभाव का विश्लेषण करने का पहला सार्वजनिक, वैज्ञानिक प्रयास है। पेकिंग यूनियन मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्रोफेसर और एक इम्यूनोलॉजी विशेषज्ञ वांग चेंगुआंग ने यह बात कही है।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने अध्ययन पर टिप्पणी करने से इनकार करते हुए कहा कि आयोग केवल सरकारों या प्रमुख शोध संस्थानों द्वारा किए गए अध्ययनों का जवाब देगा।

यह पहली बार नहीं है जब वैक्सीन की प्रभावकारिता के बारे में सवाल उठाए गए हैं। मई में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा हरी झंडी दी गई थी और 50 से अधिक देशों में इसका इस्तेमाल किया जा रहा है। डब्ल्यूएचओ के एक प्रवक्ता ने बुधवार को कहा कि उसके विशेषज्ञ अध्ययन से अवगत हैं और सभी उपलब्ध सबूतों को देख रहे हैं। एजेंसी के सलाहकारों ने महीनों पहले सवाल उठाया था कि क्या यह 60 और उससे अधिक साल लोगों में सुरक्षा प्रदान करता है?

राज्य के स्वामित्व वाली चीनी कंपनी के शोध से पता चला है कि अंतिम चरण के क्लीनिकल ट्रायल में लगभग सभी प्रतिभागी 60 वर्ष से कम उम्र के थे और इसके स्वयं के शोधकर्ताओं ने कहा कि यह कहने के लिए अपर्याप्त सबूत थे कि क्या टीके बुजुर्गों में काम करते हैं। कुल मिलाकर, बीजिंग इंस्टीट्यूट का टीका 78% प्रभावी पाया गया।

error: Content is protected !!